BSF अटारी को मिली जर्मन शेफर्ड ‘फ्रूटी’: देश की पहली प्रशिक्षित श्वान है; पाकिस्तान ड्रोन पर जवानों के साथ नजर रखेगी

0
11

Smart Newsline (SN)

Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join)

अमृतसरएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

प्रतीकात्मक तस्वीर।

भारतीय सुरक्षा बल (BSF) के साथ ड्रोन मूवमेंट पर नजर रखने के लिए देश का पहला ड्रोन डिटेक्टर श्वान भारत-पाकिस्तान सीमा अटारी पर तैनात कर दिया गया है। इस श्वान को प्यार से फ्रूटी कहते हैं। 4 साल की मादा फूटी जर्मन शेफर्ड नस्ल की है, जिसे ड्रोन के जरिए बॉर्डर पर नशीले पदार्थों व हथियारों की तस्करी को रोकने के लिए ट्रेंड किया गया है।

दुनिया में इजरायल और अमेरिका के बाद भारत तीसरा देश बन गया है, जो श्वान (प्रशिक्षित कुत्तों) की मदद से ड्रोन के माध्यम से तस्करी को रोकने में मदद करेगा। मिली जानकारी के अनुसार, देश की पहली प्रशिक्षित श्वान फ्रूटी को ग्वालियर की टेकनपुर स्थित BSF अकादमी के राष्ट्रीय श्वान प्रशिक्षण केंद्र में दो महीने की फील्ड और अकादमिक ट्रेनिंग के बाद तैयार किया गया है।

भारत के एक तरफ पाकिस्तान, दूसरी तरफ चाइना व बंगलादेश हैं। इन तीनों देशों की तरफ से तस्करी को रोकने के लिए BSF में श्वान की मांग बढ़ी है, जिसे ध्यान में रखते हुए ही BSF और अधिक श्वानों को ट्रेनिंग देने में जुट गया है।

अकादमी में फेंसिंग लगाकर दी गई ट्रेनिंग

देश की पहली श्वान फ्रूटी को ट्रेनिंग देने के लिए ग्वालियर प्रशिक्षण केंद्र में बॉर्डर जैसे हालात तैयार किए गए। मिली जानकारी के अनुसार, यहां फेंसिंग लगाई गई और बॉर्डर की तरह ड्रोन पास करवाया गया। सुबह-शाम ट्रेनिंग के बाद जब फ्रूटी ड्रोन को दूर से सुनकर ही प्रतिक्रिया देने में सक्षम हो गई तो उसे अमृतसर के अटारी में तैनात कर दिया गया।

खूबियों के चलते चुना गया जर्मन शेफर्ड

BSF ने खासतौर पर जर्मन शेफर्ड नस्ल के श्वान को ही चुना। इसके पीछे का सबसे बड़ा कारण उसके सुनने की खूबी है। जर्मन शेफर्ड डॉग के कान काफी अधिक संवेदनशील होते हैं। दूर से ही वह कोई भी हलचल सुन लेते हैं और प्रतिक्रिया भी देते हैं। सतर्क होते ही इनके कान खड़े हो जाते हैं और इनका ट्रेनर अलर्ट हो जाता है। अपने साथियों को अलर्ट भी कर देता है।

खबरें और भी हैं…

For breaking news and live news updates, like Smart Newsline on Facebook or follow us on Twitter & Whatsapp