BJP सांसद ने अपने ही पूर्व मंत्री को बताया मूर्ख: रोहतक में ग्रोवर पर भड़के अरविंद शर्मा, बोले- इस मूर्ख के लिए बयान देना सबसे बड़ी भूल

0
9

Smart Newsline (SN)

Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join)

  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • In Rohtak’s Pahrawar Village, MP Arvind Sharma Got Angry On Former Minister Manish Graver. Naveen Jaihind Program.

रोहतककुछ ही क्षण पहले

हरियाणा के भाजपा नेता और रोहतक से पार्टी के लोकसभा सांसद डॉ. अरविंद शर्मा ने अपनी ही पार्टी के पूर्व मंत्री मनीष ग्रोवर को भरी सभा में मूर्ख बता दिया। अरविंद शर्मा ने पहरावर में जमीन को लेकर चल रहे विवाद में पूर्व मंत्री मनीष ग्रोवर से खफा हैं। उन्होंने भरी सभा में कहा कि मनीष ग्रोवर का पक्ष लेकर उन्होंने अपनी जिंदगी की सबसे बड़ी भूल की है।

डॉ. शर्मा रविवार को रोहतक के पहरावर गांव में गौड़ ब्राह्मण शिक्षण संस्था को दी गई जमीन को लेकर आयोजित परशुराम जयंती कार्यक्रम में पहुंचे थे। इस कार्यक्रम का आयोजन नवीन जयहिंद की ओर से किया गया। कार्यक्रम में मंच से सांसद अरविंद शर्मा ने कहा, ‘मेरी जिंदगी की सबसे बड़ी भूल, जिसे मैं शायद सुधार भी न पाऊं, थी कि मैंने इस मूर्ख के लिए, इस ग्रोवर के लिए स्टेटमेंट दी थी।’ उन्होंने कई बार कहा कि ये उनकी सबसे बड़ी भूल थी। BJP सांसद के इस बयान पर सभा में उपस्थित लोग तालियां बजाते नजर आए।

पहरावर कार्यक्रम में पहुंचे लोग।

सांसद ने ये दिया था बयान

बता दें कि किसान आंदोलन के दौरान 4 नवंबर को किलोई के प्राचीन शिव मंदिर में जुटे भाजपा नेता, जिनमें पूर्व मंत्री मनीष ग्रोवर भी थे को ग्रामीणों ने बंधक बना लिया था। उस दौरान सांसद अरविंद शर्मा खुल कर उनके समर्थन में आए थे। तब उन्होंने बयान दिया था कि ‘ग्रोवर की तरफ जो आंख उठाएगा] उसकी आंख निकाल लेंगे, जो हाथ उठाएगा वह हाथ नहीं रहने देंगे’। अब सांसद रविवार को गांव पहरावर में लोगों के बीच आए तो उन्होंने इस बयान को अपनी जिंदगी की सबसे बड़ी भूल करार दिया।

पहरावर में नवीन जयहिंद का स्वागत करते लोग।

पहरावर में नवीन जयहिंद का स्वागत करते लोग।

ये है पहरावर का विवाद

बता दें कि गांव पहरावर में गौड़ ब्राह्मण शिक्षण संस्था को दी गई जमीन को लेकर विवाद चल रहा है। प्रशासन ने पिछले दिनों जमीन को नगर निगम की बता कर कब्जा लिया था। बाद में नवीन जयहिंद ने सरकार के कब्जे के बोर्ड को उखाड़ फेंका था। जमीन विवाद में ही रविवार को यहां भगवान परशुराम जयंती मनाई जा रही है। इस कार्यक्रम को लेकर नवीन जयहिंद ने जहां पूरी ताकत झोंक दी है, वहीं, शासन-प्रशासन की नजर भी इस कार्यक्रम पर टिक गई है। चूंकि नवीन जयहिद ने कार्यक्रम में एक ईंट और एक फरसा लेकर पहुंचने का नारा लोगों को दिया है।

खबरें और भी हैं…

For breaking news and live news updates, like Smart Newsline on Facebook or follow us on Twitter & Whatsapp