शहर की इंजीनियरिंग फेल:: फरीदाबाद में 44.37 व पलवल में 7.2 एमएम हुई बारिश, शहर बन गया तालाब, लोगों के घरों में घुसा पानी, बढ़ी परेशानी

0
17

Smart Newsline (SN)

Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join)

फरीदाबाद5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

पहली बारिश ने ही शहर की व्यवस्था पर उठाए सवाल, नाले व नालियां ओवरफ्लो हुई, सड़कों पर जमा रहा पानी। नालों की सफाई पर नगर निगम खर्च कर चुका है डेढ़ करोड़ से अधिक की राशि, फिर भी जलभराव से नहीं मिली राहत।

सोमवार को हुई दो घंटे की बारिश ने शहरवासियांें को भीषण गर्मी से राहत देने के साथ साथ आफत भी पैदा कर दी। शहर के अधिकांश इलाकों में शाम तक जलभराव की स्थिति बनी रही। एनआईटी और बड़खल के कई इलाकों मंे बारिश का पानी लाेगों के घरों में घुस गया। पूरा शहर तालाब बन गया था। फरीदाबाद में 44.37 और पलवल में 7.2एमएम बारिश रिकार्ड किया गया।

पहली ही बारिश में नगर निगम, एफएमडीए और एनएचएआई की सारी इंजीनियरिंग फेल नजर आयी। नेशनल हाइवे से लेकर अधिकांश सड़कें, गलियां व चौक चौराहों पर घुटने तक पानी जमा रहा। वर्किंग डे होने के कारण लेागों को आने जाने में परेशानी हुई। सबसे अधिक परेशानी स्कूल बच्चों को हुई। रही सही कसर बिजली कटौती ने पूरी कर दी। आंधी बारिश के कारण पूरे शहर में बिजली सप्लाई बाधित रही। इससे लेागों को पीने का पानी भी नसीब नहीं हुआ। प्रशासन के अधिकारी इस व्यवस्था के लिए एक दूसरे को टाेपी पहनाते रहे।

इन स्थानों पर रही जलभराव की स्थिति
सोमवार सुबह हुई बारिश में निगम के दावे पानी में बह गए। सड़कों पर जलभराव होने से शहर की यातायात व्यवस्था पूरी तरह चरमरा गई। नेशनल हाईवे पर बल्लभगढु से गुडईयर चौक, गुडईयर चौक से बाटा चौक, अजरौंद चौक, सेक्टर-7-8 चौक और बल्लगढ़ चौक तालाब में तब्दील हो गए थे। इससे ट्रैफिक जाम की समस्या बन गई। सबसे ज्यादा खराब हालत बाटा चौक, डबुआ कॉलोनी, पर्वतिया कॉलोनी 60 फुट रोड, सेक्टर-22, 23, सेक्टर-15ए में देखने को मिली। इसके अलावा सेक्टर-7-8, 9-10, 10-11 की डिवाइडिंग सड़क, सेक्टर-16 के विश्राम गृह वाली सड़क, सेक्टर-11 व 12 की सड़क, सेक्टर, छह, सात, आठ, नौ, 15, 16, 17, 18, 19, 21, 22, 23, 28, 29, 30, 31 व 37 की मुख्य सड़कें, बीके-हार्डवेयर चौक, एयरफोर्स रोड, रेलवे रोड, सेक्टर-7 और 9 की हुडा मार्केट, सेक्टर-9 व 10 के डिवाइडिंग रोड, सेक्टर-3 से तिगांव रोड, सौ फुटा रोड और बल्लभगढ़ बस अड्डा पानी से भरे रहे।

बारिश के कारण हुए जलभराव से जवाहर कॉलोनी में बच्ची को स्कूल छोड़ने की मशक्कत करता शहरवासी

बारिश के कारण हुए जलभराव से जवाहर कॉलोनी में बच्ची को स्कूल छोड़ने की मशक्कत करता शहरवासी

डेढ़ करोड़ खर्च कर कराई थी नालों की सफाई

निगम कमिश्नर यशपाल यादव ने तीन महीने तक अभियान चलाकर बारिश से पहले इंजीनियरिंग विभाग से नाले व नालों की सफाई कराई थी। इस पर करीब डेढ़ से दो करोड़ रुपए भी खर्च किए गए, लेकिन एक ही बारिश ने निगम इंजीनियरों की इंजीनियरिंग फेल कर दी। शहर के 80 फीसदी सड़कों पर घुटनों तक पानी भरा हुआ था। इसका खामियाजा जनता को भुगतना पड़ा।

बिजली कटौती से नहीं चले डिस्पोजल

तेज आंधी व बारिश के कारण बिजली सप्लाई बाधित हो गयी थी। पूरे जिले में 70 से अधिक बिजली के पोल गिरकर टूट गए। इससे बिजली सप्लाई पूरे शहर में बाधित हो गयी। करीब छह से आठ घंटे तक सप्लाई बाधित रही। इसका असर यह हुआ कि बारिश के पानी निकासी के लिए नगर निगम के अधिकांश डिस्पोजल नहीं चल पाए। कुछ डिस्पोजलों पर लगे जनरेटर से पानी निकासी का प्रयास किया गया लेकिन वह पूरी क्षमता से काम नहीं कर पा रहे थे।

एक दूसरे को पहनाते रहे टोपी

सोमवार को जलभराव से पूरा शहर जूझता रहा। यहां तक कि नगर निगम कार्यालयों व कर्मचारियों के घरों में भी पानी भर गया था। कई निगम अधिकारी व कर्मचारी घरों में जमा पानी निकालते रहे। जबकि उच्चाधिकारी एक दूसरे पर टोपी पहनाते रहे।नगर निगम के एसई ओमवीर सिंह ने कहना है कि एफएमडीए और एनएचएआई ने पूरे शहर में सड़कें व हाइवे बनाने के लिए खुदाई कर रास्ता बंद कर दिया है। ड्रेनेज में मिट्‌टी भर गयी है। इससे पानी की निकासी नहीं हो पायी। 5-6 घंटे तक बिजली कटौती होने से डिस्पोजल नहीं चल पाए। इसी कारण से शहर में अधिक समय तक जलभराव की स्थिति बनी रही। इस बारे मंे फरीदाबाद मेट्रोपॉलिटन डिवेलपमेंट अथॉरिटी के चीफ इंजीनियर सज्जन कुमार का कहना है कि शहर में एफएमडीए केवल दो जगहों पर सड़क बनाने का कार्य कर रहा है, ऐसे में पूरे शहर में जलभराव का कारण एफएमडीए है ये कहना पूरी तरह से गलत है। नगर निगम अपनी जिम्मेवारियों से बच रहा है। एफएमडीए के कारण जलभराव नहीं हुआ है।

खबरें और भी हैं…

For breaking news and live news updates, like Smart Newsline on Facebook or follow us on Twitter & Whatsapp