गन्ने की बकाया राशि पर बनी सहमती: किसानों के मानने के बाद देर रात रेलवे ट्रैक पर ट्रेनों की आवाजाही हुई शुरू

0
8

Smart Newsline (SN)

Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join)

अमृतसर40 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

गन्ने की बकाया राशि पर सहमति बनने के बाद देर रात अमृतसर-दिल्ली रूट एक बार फिर शुरू हो गया। देर रात रेलवे ने सिक्योरिटी चैक किया और देर रात अमृतसर-दिल्ली रूट पर ट्रेनों की आवाजाही को जारी कर दिया गया। अब किसानों को एक बार फिर 30 जून तक पूरी बकाया राशि जारी करने का आश्वासन दे दिया गया है।

गौरतलब है कि शुक्रवार शाम पंजाब बॉर्डर एरिया के किसान बिना अल्टीमेटम अचानक ही रेलवे ट्रैक पर आकर बैठ गए। जिसके बाद रेलवे ने आनन-फानन में अपनी 9 गाड़ियों के रूट को तरनतारन व पठानकोट के रास्ते अमृतसर भेजा व रवाना किया। जिसके चलते रेल यात्रियों को दिक्कत का सामना करना पड़ा। वहीं दूसरी तरफ ट्रैक पर बैठे किसानों को मनाने के लिए अमृतसर डीसी कार्यालय से एसडीएम बाबा बकाला, एसपी अमनदीप कौर, नायब तहसीलदार सुखदेव बंगड़ और डीएसपी हरकिशन सिंह मौके पर पहुंचे। लेकिन वे सभी किसानों को मनाने में असमर्थ रहे। किसानों ने उनके आश्वासन को ही नजर अंदाज कर दिया।

30 जून तक 51 करोड़ जारी करने का आश्वासन

शूगर मिल के जीएम एनआर शर्मा किसानों को मनाने के लिए पहुंचे। किसानों ने स्पष्ट कहा कि राणा शूगर मिल जब तक 51 करोड़ रुपए जारी नहीं करता, धरना नहीं उठेगा। लेकिन बाद में किसान और शूगर मिल के बीच सहमति बन गई। पूरी राशी 30 जून तक अदा करने को राणा शूगर मिल तैयार हो गया।

30 मई तक 3 करोड़ जारी होंगे

राणा शूगर मिल और किसानों के बीच बनी सहमति के अनुसार 30 मई तक 3 करोड़ रुपए जारी किए जाएंगे। 31 मई को किसानों को 2 करोड़ और 1 जून को 2 करोड़ रुपए फिर जारी कर दिए जाएंगे। बकाया राशि 30 जून तक जारी कर दी जाएगी। किसानों का गुस्सा शांत करने के लिए उन्हें 1.50 करोड़ रुपए हर्जाना देने पर भी सहमति बनी है। जिसके बाद किसानों ने धरना हटा दिया।

खबरें और भी हैं…

For breaking news and live news updates, like Smart Newsline on Facebook or follow us on Twitter & Whatsapp