खाली होगी 50 साल पुरानी शुगर मिल: 31 मई को नेशनल फेडरेशन HSVP को सौंप देगी जमीन; शीरा-चीनी बेची जा रही

0
8

Smart Newsline (SN)

Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join)

पानीपत2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

हरियाणा के पानीपत जिले के गांव डाहर स्थित नई शुगर मिल चालू हो चुकी है। इसलिए गोहाना रोड स्थित 50 साल पुरानी मिल को बंद कर दिया गया है। अब इसे शिफ्ट करने की तैयारी की जा रही है। 31 मई तक नेशनल फेडरेशन की टीम मिल की जमीन और मशीनरी का आंकलन करेगी और इसे HSVP को बेच देगी।

पुरानी मिल से सिर्फ दफ्तर और कागजात ही नई मिल में जाएंगे। मिल के स्टॉक में रखे शीरे और चीनी को मिल प्रबंधन ने प्राथमिकता से बेचना शुरू कर दिया है। शुगर मिल एमडी नवदीप सिंह का कहना है कि उनका काम केवल शुगर मिल शिफ्ट करने तक का है। इसके बाद इस जमीन पर प्लाटिंग होगी या एचएसवीपी की ओर से सेक्टर काटे जाएंगे, यह फैसला सरकार करेगी।

शहरवासी चाहते हैं कि पुरानी मिल की जगह पर बने जंगल

पुरानी मिल की करीब 70 एकड़ जमीन में एचएसवीपी की ओर से प्लाटिंग की जाएगी या शहर की गुणवत्ता सुधार के लिए यहां जंगल बनाया जाएगा, यह अभी तय नहीं है। शहरवासी चाहते हैं कि इस जमीन पर जंगल बने, ताकि शहर की वायु गुणवत्ता में सुधार हो सके। वहीं सरकार चाहती है कि इस जमीन पर एचएसवीपी की ओर से प्लाटिंग की जाए, ताकि राजस्व बढ़े। इस जमीन पर जंगल बनाने के लिए शहरवासियों ने सरकार को अपने सुझाव देने शुरू कर दिए हैं।

पुरानी शुगर मिल करीब 50 वर्ष पुरानी है। इस मिल में वर्षों पुराने पेड़-पौधे लगे हैं। इन पेड़ों पर सैकड़ों जीव जंतु रहते हैं। यहां मोर भी हैं, जो कई बार बारिश के मौसम में नाचते तक देखे जा सकते हैं। अगर यहां हुडा की ओर से प्लाटिंग की जाती है तो इन पक्षियों को अपना ठिकाना छोड़ना होगा, जो फिर कभी नहीं दिखेंगे।

नई शुगर मिल के उद्घाटन के समय सीएम मनोहर लाल ने घोषण की थी कि इस जमीन में से करीब 35 एकड़ में एचएसवीपी की ओर से प्लाटिंग की जाएगी। बाकी 35 एकड़ जमीन पर पार्क बनाएं जाएंगे। शुगर मिल शिफ्ट होने के बाद इस जमीन को एचएसवीपी को दिया जाएगा। इसके बाद आगे की कार्रवाई शुरू होगी।

खबरें और भी हैं…

For breaking news and live news updates, like Smart Newsline on Facebook or follow us on Twitter & Whatsapp