Global Statistics

All countries
526,021,973
Confirmed
Updated on May 20, 2022 8:19 am
All countries
481,617,277
Recovered
Updated on May 20, 2022 8:19 am
All countries
6,297,219
Deaths
Updated on May 20, 2022 8:19 am

Global Statistics

All countries
526,021,973
Confirmed
Updated on May 20, 2022 8:19 am
All countries
481,617,277
Recovered
Updated on May 20, 2022 8:19 am
All countries
6,297,219
Deaths
Updated on May 20, 2022 8:19 am

पंजाब कांग्रेस में बगावत: मतदान से पहले डैमेज कंट्रोल में जुटी पार्टी; दूसरे दलों में जा रहे दिग्गज नेताओं की मान मनौवल शुरू

Punjab

सफाई के बहाने महिलाओं ने की चोरी: 10 तोले सोना और हजारों की नकदी चुराई, 20 मिनट में दिया वारदात को अंजाम

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) 20 मिनट पहलेकॉपी लिंकCCTV कैमरों में कैद हुई आरोपी...

STF पंजाब की अमृतसर में बड़ी कार्रवाई: 8वीं के छात्र समेत 4 संदिग्धों को हिरासत में लिया, विस्फोटक सामग्री बरामद

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) अमृतसर39 मिनट पहलेकॉपी लिंकअगले महीने 6 जून को घल्लूघारा...

लोहारा लूट मामले में छापामारी जारी: आरोपियों की CCTV पुलिस कब्जे में, जांच करेगी विशेष टीमें

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) लुधियानाएक घंटा पहलेकॉपी लिंकलोहारा का वह घर जहां हुई...

Smart Newsline (SN)

Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join)

जालंधर4 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

पंजाब में कांग्रेस की चुनाव टिकटें घोषित होते ही पार्टी में बगावत का दौर भी शुरू हो गया है। दूसरी प्रतिद्वंद्वी पार्टियों की तरफ रुख कर रहे या रुख कर चुके कांग्रेसी नेताओं की घर वापसी के लिए मान मनौवल का दौर शुरू हो गया है। कांग्रेस ने पहली ही सूची के बाद पार्टी में शुरू हुई बगावत रोकने के लिए कई नेताओं को जिम्मेदारी सौंपी है कि वह किसी न किसी तरह रूठे हुए नेताओं को मनाकर उनकी घर वापसी करवाएं या जो जाने की सोच रहे हैं, उन्हें रोककर डैमेज कंट्रोल करें।

अमृतसर में यह जिम्मेदारी कांग्रेस हाईकमान ने डिप्टी सीएम सुखजिंदर सिंह रंधावा को सौंपी है। जालंधर में यही काम कैबिनेट मंत्री राजकुमार वेरका को सौंपा गया है। जबकि मालवा क्षेत्र में ट्रांसपोर्ट मंत्री अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग समेत कुछ अन्य वरिष्ठ कांग्रेसी नेताओं को यह काम सौंपा गया है। इन नेताओं ने हाईकमान से हुकम मिलते ही डैमेज कंट्रोल के लिए प्रयास शुरू भी कर दिए हैं।

वेरका लगातार जालंधर में मुख्यमंत्री चन्नी के रिश्तेदार और पूर्व सांसद महेंद्र सिंह केपी को मनाने में लगे हैं। जब केपी के भारतीय जनता पार्टी में जाने की चर्चाएं चली थीं तो वेरका शाम को ही केपी के घर पहुंच गए थे। दोनों में काफी लंबी बातचीत हुई। वेरका ने फोन पर दिल्ली में बैठे पार्टी के उच्च पदाधिकारियों से बात भी करवाई। खुद मुख्यमंत्री चन्नी ने भी केपी से बात की है और उन्हें पार्टी के लिए काम करने के लिए कहा।

डिप्टी सीएम सुखजिंदर सिंह रंधावा अमृतसर ग्रामीण के अध्यक्ष भगवंत पाल सिंह सच्चर को मनाने में जुटे हैं। सच्चर जो काफी लंबे अरसे से पार्टी के साथ जुड़े हुए हैं, को आस थी कि लाली मजीठिया के आम आदमी पार्टी में जाने के बाद मजीठा हलके से उन्हें टिकट मिल जाएगा, लेकिन पार्टी ने उन्हें टिकट नहीं दिया। इससे वह गुस्से में आकर भाजपा में शामिल हो गए। अब रंधावा ने उन्हें आश्वासन दिया है कि मजीठा हलके समेत कुछ अन्य क्षेत्रों के टिकट रिव्यू में डाले जा रहे हैं और वह घर वापसी करें, चुनाव में कांग्रेस पार्टी का काम देखें।

बता दें कि पंजाब विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस आलाकमान ने जो पहली सूची जारी की है, उसने पार्टी में इतना बवाल मचा दिया है कि कई दिग्गज बरसों कांग्रेस को देने के बाद बाय-बाय करके दूसरे दलों में चले गए। इनमें अधिकतर ऐसे नेता हैं, जो चुनाव टिकट चाहते थे, लेकिन पार्टी ने उन्हें दरकिनार करके दूसरी पार्टियों से आए लोगों को टिकट दे दिए।

अरविंद केजरीवाल के साथ जोगेंद्र मान।

अरविंद केजरीवाल के साथ जोगेंद्र मान।

मान को नहीं मिला सम्मान तो पकड़ा झाड़ू

फगवाड़ा से एग्रो इंडस्ट्री के अध्यक्ष जोगेंद्र सिंह मान, जो पहले जालंधर से विधायक भी रह चुके हैं, सोम प्रकाश के केंद्र सरकार में मंत्री बन जाने के बाद खाली हुई फगवाड़ा सीट पर उपचुनाव में भी टिकट चाहते थे। लेकिन कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपने खासमखास पूर्व आईएएस अधिकारी बलविंदर सिंह धालीवाल को टिकट दे दिया। सत्ता में कांग्रेस पार्टी थी तो वह प्रभाव के कारण भाजपा के गढ़ में चुनाव भी जीत गए। उस वक्त पार्टी में बगावत को रोकने के लिए कैप्टन ने जोगेंद्र सिंह को एडजस्ट किया और कैबिनेट रैंक का ओहदा देते हुए पंजाब एग्रो इंडस्ट्री का अध्यक्ष बना दिया।

इस बार कैप्टन पार्टी से ही बाहर हो गए तो उन्होंने दोबारा फिर से पार्टी की टिकट के लिए जद्दोजहद शुरू की। लेकिन कांग्रेस की लिस्ट आने से दो दिन पहले उन्हें यह कन्फर्म हो गया था कि इस बार टिकट फिर से उन्हें नहीं मिलेगा, बल्कि सिटिंग एमएलए को ही टिकट दिया जा रहा है। उन्होंने अपना कांग्रेस में मंतव्य पूरा न होते देख एक भावुक चिट्ठी सोनिया गांधी को लिखी और कांग्रेस को अलविदा कह दिया।

भाजपा में शामिल होने के बाद हरजोत कमल।

भाजपा में शामिल होने के बाद हरजोत कमल।

हरजोत अब भाजपा का खिलाएंगे कमल

मोगा से कांग्रेस के विधायक हरजोत कमल की टिकट कटने पर वह लिस्ट जारी होते ही चंडीगढ़ जाकर भाजपा में शामिल हो गए। हरजोत कमल के स्थान पर कांग्रेस ने इस बार टिकट अभिनेता सोनू सूद की बहन मालविका सूद को दे दी। जबकि हरजोत कमल मालविका के कांग्रेस में शामिल होते हुए विरोधी हो गए थे। हरजोत का कहना है कि उन्हें कोई अफसोस नहीं होता, यदि सोनू सूद चुनाव लड़ते। पार्टी सोनू सूद को टिकट देती तो वह साथ भी देते। उनका समाज सेवा में बहुत बड़ा योगदान है। लेकिन बहन का किरदार ऐसा नहीं रहा है। पार्टी उन्हें कहीं दूसरी जगह से टिकट देने के लिए भी कह रही थी, लेकिन उन्होंने पार्टी के वफादार सिपाही के साथ जिस तरह का बर्ताव किया है, उससे खिन्न होकर उन्होंने दूसरी जगह जाना बेहतर समझा।

नवजोत सिद्धू और मुख्यमंत्री चन्नी के साथ गायक सिद्धू मूसेवाला।

नवजोत सिद्धू और मुख्यमंत्री चन्नी के साथ गायक सिद्धू मूसेवाला।

स्टारडम देख विचारधारा भटकी अहिंसावादी कांग्रेस, विरोध

मानसा में भी गांधीवादी अहिंसावादी विचारधारा रखने वाली कांग्रेस ने हिसंक सोच वाले हथियारों व मारधाड़ से भरे गीत गाने वाले गायक सिद्धू मूसेवाला को टिकट दे दिया। इससे वहां पर भी कांग्रेस में विरोध की धुन बज उठी। मानसा में तो विधायक से लेकर यूथ कांग्रेस तक सारा संगठन ही विरोध पर उतर आया है। इलाके में अपनी पैठ रखने वाले स्वर्गीय मंत्री शेर सिंह गागोवाल के परिवार के सदस्यों गुरप्रीत कौर गागोवाल, अर्शदीप सिंह माइकल गागोवाल, स्थानीय विधायक नाजर सिंह मानशाहिया, यूथ कांग्रेस प्रधान चुसपिंदर सिंह ने पार्टी से त्यागपत्र दे दिया। सभी इकट्ठे होकर चुनाव के लिए अपनी रणनीति तय करने जा रहे हैं और अपनी ही पार्टी के खिलाफ चुनाव में उतरेंगे।

भाजपा में शामिल होने पर भगवंत पाल सच्चर का पुष्प गुच्छ देकर स्वागत करते तरूण चुघ से साथ।

भाजपा में शामिल होने पर भगवंत पाल सच्चर का पुष्प गुच्छ देकर स्वागत करते तरूण चुघ से साथ।

टिकट नहीं मिली तो छोड़ा हाथ का साथ

अमृतसर में कांग्रेस के भीतर भड़की चिंगारी शांत नहीं हो रही है। मजीठा से लाली मजीठिया के आम आदमी पार्टी में जाने के बाद अब अमृतसर ग्रामीण के अध्यक्ष भगवंत पाल सिंह सच्चर पार्टी को अलविदा कह कर भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए। उनका कहना था कि जिस तरीके से पार्टी में उथल पुथल मची हुई है, इससे वह घुटन महसूस कर रहे थे, जिस कारण उन्होंने कांग्रेस छोड़ी है। दरअसल बात यह भी थी कि बरसों कांग्रेस में लगाने के बाद भी उन्हें संगठन से ऊपर नहीं उठाया जा रहा था। वह चाहते थे कि लाली मजीठिया के आम आदमी पार्टी में जाने के बाद टिकट उन्हें दिया जाता। लेकिन नहीं मिला तो यही घुटन उनकी पार्टी से उनके विघटन का कारण बनी।

पीएसआईसी विभाग के चेयरमैन गुरप्रीत गोगी।

पीएसआईसी विभाग के चेयरमैन गुरप्रीत गोगी।

‘मैं भी आशु हूं’ से डैमेज कंट्रोल

इसी तरह से लुधियाना में खाद्य आपूर्ति मंत्री आशु के खासमखास रहे लुधियाना पश्चिमी से पार्षद और पंजाब सरकार के पीएसआईसी विभाग के चेयरमैन गुरप्रीत गोगी ने बुधवार को कांग्रेस को अलविदा कह दिया था। अब वही गोगी कांग्रेस के खिलाफ लुधियाना पश्चिमी से ताल ठोकेंगे। गोगी को आम आदमी पार्टी ने लुधियाना पश्चिमी से अपना प्रत्याशी बनाया है। कभी आशु के लिए वोटें मांगने वाले गोगी अब खुद के लिए प्रचार करेंगे और आशु को टक्कर देंगे। बता दें कि आशु ने गोगी के डैमेज को कंट्रोल करने के लिए पहले ही ‘मैं भी आशु हूं’ मुहिम चला दी है, ताकि जो कांग्रेस में टूट फूट हो रही उस तरफ किसी का ध्यान न जाए। गोगी ने भी कांग्रेस घुटन की वजह और आगे नगर निगम से विधानसभा की तरफ जाता कोई रास्ता नजर न आता देख पार्टी छोड़ी।

मुख्यमंत्री चन्नी के साथ केपी।

मुख्यमंत्री चन्नी के साथ केपी।

मुख्यमंत्री चन्नी के अपने घर में ही बगावत

विधानसभा चुनाव 2022 में सबसे बड़ी बगावत तो मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के परिवार और रिश्तेदारी में देखने को मिल रह है। रूपनगर में जहां उनका चचेरा भाई कांग्रेस से बागी होकर आजाद चुनाव लड़ने के लिए दंगल में उतर रहा है। मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के छोटे भाई डॉ. मनोहर सिंह ने घोषणा की है कि वह बस्सी पठाना निर्वाचन क्षेत्र से बतौर स्वतंत्र उम्मीदवार चुनाव लड़ेंगे।बता दें कि शनिवार को कांग्रेस ने 86 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी की थी। इस लिस्ट में चन्नी के भाई का नाम नहीं था। चन्नी के भाई ने सरकारी नौकरी ही इसलिए छोड़ी थी कि उन्हें कांग्रेस की टिकट पर चुनाव लड़ना था। कांग्रेस के टिकट देने से इनकार करने के बाद चन्नी के भाई अब निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे।

वहीं जालंधर में आदमपुर से चन्नी के रिश्तेदार पूर्व सांसद महेंद्र सिंह केपी टिकट न मिलने पर बगावती सुर अपनाए हुए हैं। उन्होंने सीधे-सीधे धमकी दे दी है कि वह चुनाव जरूर लड़ेंगे। लेकिन आजाद लड़ेंगे या फिर किसी दल की किश्ती पर सवार होकर लड़ेंगे, इस पर अभी तक उन्होंने कोई सुर बाहर नहीं निकाला है। बस इतना ही कह रहे हैं कि जल्द ही बता देंगे। लेकिन भीतरी सूत्रों के हवाले से पता चला है कि वह भाजपा के साथ अपना तारतम्य बिठा रहे हैं। इसके लिए वह पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के भी संपर्क में हैं।

केपी का कहना है कि उन्होंने लंबे समय तक पार्टी की सेवा की। अब कहते हैं कि सर्वे में नेगेटिव रिजल्ट आने के कारण उनका टिकट काटा गया। लेकिन जो अभी 20-25 दिन पहले ही पार्टी में आए हैं, उनका 15 दिन में ही सर्वे में ऐसा क्या देख लिया गया, जो उन्हें विधानसभा चुनाव टिकट दे दिया गया। जबकि पिछले विधानसभा चुनाव में वह तीसरे नंबर रहे थे। उनकी हार का तो मार्जन भी कम था।

खबरें और भी हैं…

For breaking news and live news updates, like Smart Newsline on Facebook or follow us on Twitter & Whatsapp

Hot Topics - Haryana

कोल्ड ड्रिंक के ढक्कन ने ली जान: 15 साल के किशोर के गले में फंसा, पूर्व फौजी के इकलौते बेटे ने मिलिट्री अस्पताल में तोड़ा दम

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) अंबाला24 मिनट पहलेकॉपी लिंकहरियाणा के अंबाला जिले में कोल्ड...

महिला टीचर को थाने में किया जलील: बड़ी पुलिस स्टेशन के PSI समेत 3 पर FIR; भद्दे कमेंट करने का आरोप

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) सोनीपत15 मिनट पहलेकॉपी लिंकहरियाणा में जिला सोनीपत के थाना...

रेवाड़ी तहसील का औचक निरीक्षण: अव्यवस्था पर डीसी की सख्ती; 3 दिन में हो सुधार, वरना एक्शन के लिए रहो तैयार

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) रेवाड़ी7 मिनट पहलेकॉपी लिंकरेवाड़ी तहसील में निरीक्षण के दौरान...

Related Articles - Delhi NCR

दिल्ली पुलिस में 835 पदों पर हेड कांस्टेबल की भर्ती: SSC कराएगी परीक्षा, कोई भी कहीं से कर सकता है अप्लाय, आखिरी तारीख 16...

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) 4 मिनट पहलेसरकारी नौकरी की तैयारी कर रहे युवाओं...

एचआर कॉन्क्लेव में वक्ता बोले:: कैंपस प्लेसमेंट के दौरान ही स्टूडेंट को जॉब मिल जाए तो इसके लिए उसे सही तैयारी करना जरूरी है

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) फरीदाबाद34 मिनट पहलेकॉपी लिंकफरीदाबाद। एचआर कांक्लेव को संबोधित करते...