Global Statistics

All countries
531,379,228
Confirmed
Updated on May 29, 2022 3:54 am
All countries
487,825,286
Recovered
Updated on May 29, 2022 3:54 am
All countries
6,310,376
Deaths
Updated on May 29, 2022 3:54 am

Global Statistics

All countries
531,379,228
Confirmed
Updated on May 29, 2022 3:54 am
All countries
487,825,286
Recovered
Updated on May 29, 2022 3:54 am
All countries
6,310,376
Deaths
Updated on May 29, 2022 3:54 am

BHU ने भूपेन हजारिका को दिलाई अमेरिका में प्रतिष्ठा: वाराणसी ने किया हजारिका के संगीत को पुनर्जीवित, यहीं से संगीत में घुली समाज की पीड़ा, कुलपति डॉ. राधाकृष्णन भी थे मुरीद

Punjab

BSF अटारी को मिली जर्मन शेफर्ड ‘फ्रूटी’: देश की पहली प्रशिक्षित श्वान है; पाकिस्तान ड्रोन पर जवानों के साथ नजर रखेगी

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) अमृतसरएक घंटा पहलेकॉपी लिंकप्रतीकात्मक तस्वीर।भारतीय सुरक्षा बल (BSF) के...

आईटी पार्क के नाम पर गबन का मामला: दो पंच-सरपंच अरेस्ट, खुलासा-बड़े कांग्रेसी नेता ने दबाव डाल करवा दिए चेक पर साइन

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) पटियालाएक घंटा पहलेकॉपी लिंकराजपुरा आईटी पार्क प्रोजेक्ट मामले में...

पावरकॉम की चारों डिवीजनों में 500 से अधिक शिकायतें: 10 मिनट आंधी,15 मिनट बारिश से कई इलाकों में बत्ती गुल, पेड़ भी टूटे

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) जालंधर26 मिनट पहलेकॉपी लिंकआंधी से मेहतपुर-नकोदर रोड पर पंजाब...

Smart Newsline (SN)

Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join)

वाराणसी39 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

डॉ. भूपेन हजारिका ने BHU में 1942-46 तक बीए और एमए किया था। इसके बाद शोध के लिए अमेरिका में चले गए।

ब्रह्मपुत्र नदी की घाटियों से निकलकर डॉ. भूपेन हजारिका ने गंगा किनारे बसने वाले लोगों की पीड़ा को कालजयी रचना (ओ गंगा बहती हो क्यों) में ढाल दिया। यह गीत आज भी गंगा किनारे बसे हर नगर की व्यथा को व्यक्त करता है। असम के सादिया में जन्में (8 सितंबर,1926) डॉ. भूपेन हजारिका की आज 95वीं जयंती देश भर में मनाई जा रही है। असमिया संगीत के पुरोधा और भारतरत्न हजारिका के जीवन के 2 सबसे अहम मोड़ काशी हिंदू विश्वविद्यालय से भी जुड़े हैं। एक तो यह कि वह गुवाहाटी से असमिया संगीत को पीछे छोड़कर पॉलिटिकल सांइस की पढ़ाई करने काशी आए। मगर यहां पॉलिटिकल साइंस की कक्षा करते-करते हजारिका को काशी की पारंपरिक और शास्त्रीय संगीत ने फिर से मोह लिया। काशी हिंदू विश्वविद्यालय ही वह जगह था जहां से उन्हें संगीत की दुनिया में दोबारा से पदार्पण करने का अवसर मिला।

इंटरमीडिएट के दौरान डॉ. भूपेन हजारिका।

इंटरमीडिएट के दौरान डॉ. भूपेन हजारिका।

वहीं जीवन का दूसरा सबसे अहम मोड़ यह कि काशी हिंदू विश्वविद्यालय से ही उन्हें अमेरिका के कोलंबिया यूनिवर्सिटी में PhD करने का अवसर मिला। BHU से कोलंबिया जाते ही उनके जीवन का ध्येय बदल चुका था। उन्हें अमेरिका में जनसंचार विषय पर शोध करके काफी प्रतिष्ठा मिली।

संगीत में मिला पॉलिटिकल साइंस का फ्लेवर

BHU में राजनीति विज्ञान विभाग के रिटायर्ड आचार्य प्रोफेसर आर पी पाठक बताते हैं कि उनके संगीत में समाज की पीड़ा का भाव काशी हिंदू विश्वविद्यालय में पड़ा। यहां के स्कूल ऑफ आर्ट में पॉलिटिकल सांइस की कक्षा करके सीधे ओंकार नाथ ठाकुर के बनाए संगीत कॉलेज के चबूतरे पर पूरा दिन गुजारते थे। वहां से आ रही संगीत की धुन में उन्होंने राजनीति विज्ञान के सिद्धांतों और सामाजिक मूल्यों को लागू करना शुरू कर दिया।

मालवीय, राधाकृष्णन और ओंकारनाथ ठाकुर की शिक्षा ने दिखाई राह

काशी हिंदू विश्वविद्यालय के पूर्व विशेष कार्याधिकारी डॉ. विश्वनाथ पांडेय बताते हैं कि BHU के महान शिक्षकों ने उन्हें राह दिखाई। बनारस में उन्हें प्रख्यात तबला वादक पंडित किशन महराज के चाचा कंठे महराज का साथ मिला। इसके बाद वह संगीत की दुनिया में रम गए। वहीं साथ में विश्वविद्यालय के परिसर का सबसे अधिक प्रभाव तो उनके व्यक्तित्व पर पड़ा। महामना पंडित मदन मोहन मालवीय, ओंकारनाथ ठाकुर, डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन, आचार्य नरेंद्र देव और चंद्रशेखर जैसे महान राजनीतिज्ञों के विचारों की छाप पड़ी। इन विचारों का प्रभाव प्रत्यक्ष तौर पर उनके संगीत पर पड़ा। वह अपने जीवन काल में BHU के लोगों से हमेशा जुड़े रहे।

BHU मे रहकर गाए 4 गाने

यहां पर रहकर 1943 में आनंदराम दास के रचित 4 गीतों को उन्होंने अपनी आवाज दी। इसमें ओ बांछै मरो लागे तात, स्मृतिर बुकुत थाई जाम मोर, तुमिये गोवाला प्रिया गान और मोरे ओरे जीवन करि ज्वलकला जैसे गीत शामिल हैं। इन सभी में समाज का दर्द दिखा और हजारिका की लोकप्रियता बढ़ने लगी थी। अपने कुलपतित्व काल में खुद डाॅ. राधाकृष्णन BHU में हजारिका के सुर के प्रशंसक रहे।

द्वितीय विश्वयुद्ध से असम की परिस्थितियों ने बुलाया BHU

सामाजिक विज्ञान संकाय के डीन प्रो. कौशल किशाेर मिश्रा बताते हैं कि द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान असम में ब्रह्मपुत्र की घाटियों में अशांति फैल चुकी थी। इससे तंग आकर उनके पिता ने हजारिका को काशी हिंदू विश्वविद्यालय में एडमिशन दिला दिया। उससे पहले भूपेन हजारिका ने काशी हिंदू विश्वविद्यालय के छात्रों और अंग्रेजी सेना के संघर्षों को अखबारों की प्रतियों में पढ़ रखा था। जब वह यहां वर्ष 1942 में आए तो उनके भीतर उच्च शिक्षा और संगीत के साथ ही स्वतंत्रता की लड़ाई और राष्ट्रवाद के विचारों का सूत्रपात भी हुआ। वह 1942 में गुवाहाटी के कॉटन कॉलेज से इंटरमीडिएट करने के बाद 1946 में काशी हिंदू विश्वविद्यालय आए। यहां से बीए और एमए की डिग्री हासिल करने के बाद वह 1946 में मास कम्युनिकेशन में PhD करने यूनिवर्सिटी ऑफ कोलंबिया चले गए। 1949 में PhD की उपाधि मिलने के बाद वह भारत आ गए और संगीत की दुनिया में स्वयं को समर्पित कर दिया।

खबरें और भी हैं…

For breaking news and live news updates, like Smart Newsline on Facebook or follow us on Twitter & Whatsapp

Hot Topics - Haryana

AAP के बाद BJP ने बनवाया गाना: दलेर मेहंदी ने CM मनोहर लाल के लिए गाया गाना; 30 मई को लॉन्चिंग

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) चंडीगढ़19 मिनट पहलेकॉपी लिंकसीएम मनोहर लालहरियाणा में सत्तारुढ़ भाजपा...

सुर्खियों में आई अंबाला की सेंट्रल जेल: 2 बंदियों से 3 मोबाइल और 1.34 ग्राम हेरोइन बरामद; NDPS एक्ट का केस दर्ज

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) Hindi NewsLocalHaryanaAmbalaAmbala's Central Jail In Limelight Jail Administration Recovered...

Related Articles - Delhi NCR

धमकी की वाइस रिकार्डिंग कॉल:: खालिस्तानी आतंकी ने दी धमकी, हरियाणा में तीन जून को नहीं चलने दी जाएगी कोई ट्रेन

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) फरीदाबाद3 घंटे पहलेकॉपी लिंकबोला, इस दिन हरियाणा में नहीं...