Global Statistics

All countries
530,783,788
Confirmed
Updated on May 28, 2022 1:48 am
All countries
487,135,138
Recovered
Updated on May 28, 2022 1:48 am
All countries
6,309,497
Deaths
Updated on May 28, 2022 1:48 am

Global Statistics

All countries
530,783,788
Confirmed
Updated on May 28, 2022 1:48 am
All countries
487,135,138
Recovered
Updated on May 28, 2022 1:48 am
All countries
6,309,497
Deaths
Updated on May 28, 2022 1:48 am

पदक से एक कदम दूर रह गए तरुण ढिल्लों: इंडोनेशिया के खिलाड़ी से करीबी मुकाबले में हारे  : परिवार के लोग बोले : पदक की पूरी उम्मीद थी, पहली बार में इस मुकाम तक पहुंचना ही बड़ी कामयाबी

Punjab

खुद ही रचा था लूट का सारा ड्रामा: एयरटेल कर्मचारी ने कर्ज उतारने के लिए गढ़ी थी लूट की कहानी

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) जालंधर22 मिनट पहलेकॉपी लिंकलूट की झूठी कहानी गढ़ने वाला...

STF ने पकड़ी 5 किलो 500 ग्राम हेरोइन: 3 नशा तस्कर काबू, सीमावर्ती इलाकों से लाते थे ड्रग

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) लुधियाना3 घंटे पहलेकॉपी लिंकSTF टीम द्वारा हेरोइन सहित गिरफ्तार...

पुलिस ने 2 मोबाइल झपटमार किये काबू: महिलाओं और बुजुर्गों के छीनते थे फोन, 39 मोबाइल, 1 मोटरसाइकिल बरामद, 1 आरोपी फरार

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) लुधियाना2 घंटे पहलेकॉपी लिंकपुलिस द्वारा गिरफ्तार किये गए छीना...

Smart Newsline (SN)

Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join)

  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • The Family Members Who Lost In The Close Match With The Indonesian Player Said: There Was Full Hope Of Medal, Reaching This Point In The First Time Was A Big Success

हिसार32 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

इंडोनेशिया के खिलाड़ी से करीबी मुकाबले में हारे

परिवार के लोग बोले : पदक की पूरी उम्मीद थी, पहली बार में इस मुकाम तक पहुंचना ही बड़ी कामयाबी

हिसार : 27 वर्षीय भारतीय शटलर तरुण ढिल्लों का पैरालिंपिक में सफर रविवार सुबह थम गया। सुबह सात बजे हुए मुकाबले में इंडोनेशिया के खिलाड़ी फ्रेडी सेतियावान के साथ हुए मुकाबले में तरुण ढिल्लों ने काफी संघर्ष करते हुए 32 मिनट तक मुकाबला किया लेकिन पदक से एक कदम दूर रह गए। फ्रेडी के साथ नजदीकी मुकाबले में तरुण ने 21-17, 21-11 से मैच गवां दिया। इस हार के बाद तरुण की पदक की कांस्य पदक की उम्मीद भी खत्म हो गई है। तरुण के मुकाबले में बाहर हो जाने से परिवार उदास तो है लेकिन उनको तरुण द्वारा की गई मेहनत व हौंसले पर नाज है। तरुण के नाना सज्जन पूनिया व मां सुलोचना ने बताया कि उनको उम्मीद थी कि तरुण मैडल जीतकर ही लौटेगा लेकिन थोड़ी कमी रह गई। परिजनों के अनुसार एक गांव से उठकर इस लेवल तक पहुंचना ही उनके लिए बड़ी बात है। पहले ही प्रयास में पैरालिंपिक के सेमिफाइनल तक पहुंचना ही उनके लिए सुखद है। इस खेल से तरुण को काफी कुछ सीखने को मिला है। उम्मीद है कि इसका फायदा अगले पैरालिंपिक में जरूर मिलेगा और तरुण गोल्ड मैडल जीतेगा।

मैच देखते हुए तरुण के परिवार के

मैच देखते हुए तरुण के परिवार के

संघर्षों भरा रहा है तरुण ढिल्लों का सफर, पिता की मौत के बाद नाना के सहयोग से ओलिम्पिक तक पहुंचे हैं

तरुण ढिल्लों का यहां तक का सफर काफी संघर्षों भरा रहा है। तरुण ढिल्लों के पिता सतीश कुमार का बीमारी के कारण स्वर्गवास हो गया उसके बाद उनके नाना सातरोड़ कलां वासी सज्जन पूनिया ने ही अपने दोहते का हर मुसीबत में साथ दिया और उसको इस मुकाम तक पहुंचाया है। मूल रूप से फतेहाबाद के नहला गांव वासी तरुण ढिल्लों फिलहाल हिसार के सातरोड़ कलां गांव में अपने नाना के पास रहता है। उसके नाना सज्जन पूनिया ने बताया कि तरुण बचपन से ही हमारे पास सातरोड़ में रहता है। तरुण जब छोटा था तो उसके पिता सतीश कुमार को अधरंग हो गया था। इसके बाद वो ठीक ही नहीं पाए व लंबे बीमार होने के कारण उनकी मृत्यु हो गई। तरुण की तीन बहनें है इनमें तरूण सबसे छोटा है। सज्जन पूनिया ने बताया तरुण के पिता की मृत्यु होने के बाद पूरा परिवार बहुत ही शौकाकुल हो गया था। छोटे-छोटे बच्चों की ओर देखकर आंखे भर आती थी। छोटे बच्चों को व तरुण की मां को हौंसला देने के लिए आंसुओं को भी अंदर की रोकना पड़ता था। सज्जन ने बताया कि बेटी सुलोचना पर ज्यादा बोझ ना पड़े इसलिए वह दोहते तरुण को अपने पास सातरोड़ गांव ले आए थे। तभी से वह उनके पास रह रहा है। धीरे-धीरे समय बीतता गया, तरुण की मां ने भी अपने बच्चों को हिम्मत करके पढ़ाया। तरुण के नाना ने सज्जन सिंह ने बताया कि आज उन्हें बहुत ही खुशी हुई की उनका दोहते तरूण ने उनके परिवार, हिसार व हरियाणा का नाम पूरे विश्व में नाम रोशन किया है।

2004 में तरुण के पैर में लगी थी चोट, दो बार ऑप्रेशन करवाया लेकिन सफलता नहीं मिली

तरुण के पिता सतीश कुमार डेयरी चलाने का काम करते थे और साथ ही क्रिकेट भी अच्छी खेलते थे। अपने पिता को देखकर ही तरुण ने क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था। 2004 में क्रिकेट खेलते समय रन लेते समय तरुण के दाहिने पैर में चोट लग गई थी। तरुण का एक बार हिसार व दूसरी बार दिल्ली एम्स में ऑप्रेशन करवाया गया लेकिन करीब 8 महीने तक चले इलाज के बाद भी पैर ठीक नहीं हो पाया। इसके बाद तरुण ने क्रिकेट छोड़कर बैडमिंटन खेलना शुरू कर दिया। तरुण की मां सिलोचना ने अपने बेटे को हौंसला दिया व एक पैर कमजोर होने के बाद तरूण को बैडमिंटन खेलने की सलाह दी। मां की इस सलाह से आज तरुण विश्व में हिसार का नाम रोशन कर रहा है।

2013 तरुण ने जर्मनी में वर्ल्ड वल्र्ड एशियन चैंपियनशिप में गोल्ड मैडल जीता था। इसके बाद 2019 और 2020 में भी चैंपियनशिप में तरुण ने भाग लिया था लेकिन घुटने की चोट ने उन्हें गेम से बाहर कर दिया था। अब तरुण का लक्ष्य टोक्यो पैरालिम्पिक में मैडल जीतना था लेकिन वह आखिरी पायदान पर पहुंचकर एक कदम से चूक गए। अब उनको अगले पैरालिंपिक के लिए तैयारी में जुटना है।

खबरें और भी हैं…

For breaking news and live news updates, like Smart Newsline on Facebook or follow us on Twitter & Whatsapp

Hot Topics - Haryana

अधिकारियों के तबादलों पर रोक: चुनाव प्रक्रिया से जुड़े अधिकारियों व कर्मियों के तबादले पर चुनाव आयोग ने लगाई रोक

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) जींद41 मिनट पहलेकॉपी लिंकनिकाय चुनाव आयोग ने उन कर्मचारियों...

संवाद कार्यक्रम: केंद्रीय स्कीमों के लाभार्थी भी कार्यक्रम में लेंगे भाग

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) रोहतक27 मिनट पहलेकॉपी लिंकजिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी...

Related Articles - Delhi NCR

पुलिस एक्शन:: अफसरों, विधायकों, पार्षदों की फर्जी मोहर लगाकर आधार कार्ड, पैन कार्ड व श्रम कार्ड आदि बनाने वाली सीएससी का भंडाफोड़, एक हिरासत...

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) फरीदाबादएक घंटा पहलेकॉपी लिंकसीएम फ्लाइंग की छापेमारी में की...