Global Statistics

All countries
260,858,963
Confirmed
Updated on November 27, 2021 1:56 am
All countries
233,896,726
Recovered
Updated on November 27, 2021 1:56 am
All countries
5,205,981
Deaths
Updated on November 27, 2021 1:56 am

Global Statistics

All countries
260,858,963
Confirmed
Updated on November 27, 2021 1:56 am
All countries
233,896,726
Recovered
Updated on November 27, 2021 1:56 am
All countries
5,205,981
Deaths
Updated on November 27, 2021 1:56 am

पंजाब कांग्रेस कलह LIVE: सिद्धू को मनाने के मूड में नहीं हाईकमान, इस्तीफे के 2 दिन बाद भी बात नहीं, CM चन्नी को भी मिलने से रोका

Punjab

कब्जा: फर्जी दस्तावेज तैयार कर जमीन पर किया कब्जा, 5 पर केस दर्ज

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) पटियालाएक घंटा पहलेकॉपी लिंकउसने अपनी उक्त जमीन में से...

विजिलेंस जांच शुरू: स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में पैसे की बर्बादी, चीफ विजिलेंस अफसर को कंप्लेंट, बयान दर्ज

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) जालंधरएक दिन पहलेकॉपी लिंकनिगम के अधीन अवैध काॅलोनियां बनाने...

जिमखाना चुनाव: एग्जीक्यूटिव पद के लिए 22 लोग सक्रिय, 1 पोस्ट पर 2 टेन्योर के बाद ब्रेक का मुद्दा एजीएम में उठेगा

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) जालंधर21 घंटे पहलेकॉपी लिंकऑनरेरी सेक्रेटरी पद के लिए प्रोग्रेसिव...

Smart Newsline (SN)

Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join)

  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • Punjab Congress Discord LIVE: High Command In No Mood To Persuade Sidhu, Not Talking Even After 2 Days Of Resignation, MLAs Are Also Leaving

जालंधर10 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

हाईकमान की अनदेखी से सिद्धू भी खुद हैरान हैं। फाइल फोटो

नवजोत सिद्धू का रवैया देख कांग्रेस हाईकमान भी अड़ गया है। दिल्ली से चंडीगढ़ के रास्ते पटियाला बैठे सिद्धू को साफ संदेश भेज दिया गया है। सिद्धू की हर जिद अब पूरी नहीं होगी। इसी वजह से सिद्धू के इस्तीफे को 2 दिन बीतने के बाद भी हाईकमान ने बात नहीं की। यह देख अब पंजाब में सिद्धू के प्रधान बनने से जोश में दिख रहे विधायक और नेता भी उनका साथ छोड़ने लगे हैं। कैप्टन का तख्तापलट करते वक्त सिद्धू के साथ 40 विधायक थे, अब वह अकेले पड़ गए हैं। उनके समर्थन में सिर्फ रजिया सुल्ताना ने ही मंत्रीपद छोड़ा। उनके करीबी परगट सिंह डटकर सरकार के साथ खड़े हैं।

बुधवार रात मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी चंडीगढ़ से पटियाला जाने की तैयारी में थे। ऐन वक्त पर यह दौरा टल गया। माना जा रहा है कि कांग्रेस हाईकमान ने उन्हें इनकार कर दिया। चुनाव की घोषणा में सिर्फ 3 महीने बचे हैं। ऐसे में उन्हें सरकार के काम पर फोकस करने को कहा गया है। हाईकमान सिर्फ परिणाम चाहता है ताकि पंजाब में अगली सरकार कांग्रेस की बन सके। सिद्धू को मनाने के लिए हाईकमान के कहने पर CM चरणजीत चन्नी ने नवजोत के ही करीबी मंत्री परगट सिंह और अमरिंदर राजा वडिंग की कमेटी बना दी है। वो पहले 2 बार सिद्धू से मिल चुके हैं, लेकिन आगे कोई बात नहीं हुई है।

कार्टूनिस्ट के नजरिए से सिद्धू का रवैया

कार्टूनिस्ट के नजरिए से सिद्धू का रवैया

सिद्धू की शर्तें मानी तो सुपर-CM पर लगेगी हाईकमान की मुहर
कांग्रेस ने पंजाब में पहला अनुसूचित जाति का CM बनाया है। पंजाब में 32% अनुसूचित जाति का वोट बैंक है। इसी को निशाना बना चन्नी सीएम बन गए। अगर सिद्धू की शर्तें मान ली तो DGP और AG को हटाना पड़ेगा। ऐसा हुआ तो सीधे तौर पर सरकार कमजोर पड़ जाएगी। हाईकमान ने ऐसा करवा दिया तो सिद्धू के सुपर CM बनने पर मुहर लग जाएगी। ऐसे में चन्नी को लेकर विरोधी मुद्दा बनाकर कांग्रेस का यह दांव फेल कर देंगे। इसी वजह से सिद्धू के बिना बात किए अचानक इस्तीफा देने पर कांग्रेस हाईकमान ने उनसे दूरी बना ली।

सिद्धू राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के करीबी थे। अब उन्होंने ही दूरी बना ली।

सिद्धू राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के करीबी थे। अब उन्होंने ही दूरी बना ली।

हाईकमान ने नया प्रधान ढूंढने को कहा
सिद्धू के अड़ियल रवैए को देखते हुए कांग्रेस हाईकमान ने अब पंजाब में नए प्रधान के संकेत दे दिए हैं। कांग्रेस के पर्यवेक्षक हरीश चौधरी बुधवार सुबह ही चंडीगढ़ पहुंच गए थे। इसके बाद उन्होंने कुछ नेताओं से मुलाकात और बातचीत की। चर्चा यही है कि सिद्धू के इस्तीफा वापस न लेने की सूरत में नया प्रधान लगा दिया जाए। मंत्री पद से अंतिम समय में वंचित रहे कुलजीत नागरा इसके बड़े दावेदार हैं। चर्चा पूर्व CM बेअंत सिंह के परिवार से जुड़े सांसद रवनीत बिट्‌टू की भी है। यह भी संभव है कि सुनील जाखड़ को वापस प्रधान लगा दिया जाए ताकि उनकी भी नाराजगी दूर हो सके।

प्रधान बनने के बाद सिद्धू कुछ इस तरह जोश में थे।

प्रधान बनने के बाद सिद्धू कुछ इस तरह जोश में थे।

सिद्धू की मनमानी नहीं आ रही रास
सिद्धू भले ही मुद्दों की बात कर रहे हों, लेकिन उनके तरीके को लेकर कांग्रेस के भीतर ही नाराजगी है। सिद्धू ने इस्तीफा तब दिया, जब मंत्री चार्ज संभाल रहे थे। यह टाइमिंग सबको नागवार गुजरी। पहले इसके बारे में किसी से बात नहीं की। सीधे सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया। जब सब पूछते रहे कि नाराजगी की वजह क्या है? तो सोशल मीडिया पर फिर वीडियो पोस्ट कर दिया। CM चन्नी ने भी इस ओर इशारा किया कि वो पार्टी प्रधान हैं, परिवार में बैठकर बात करते। साफ तौर पर सिद्धू का यह रवैया किसी को रास नहीं आ रहा।

प्रधान बनने के बाद सिद्धू अमृतसर में दरबार साहिब माथा टेकने गए तो विधायक साथ थे।

प्रधान बनने के बाद सिद्धू अमृतसर में दरबार साहिब माथा टेकने गए तो विधायक साथ थे।

जाे अब तक साथ थे, वो अलग होते चले गए
कैप्टन अमरिंदर के विरोध के बावजूद सिद्धू पंजाब कांग्रेस प्रधान बने। इसमें अहम रोल मौजूदा डिप्टी सीएम सुखजिंदर रंधावा और मंत्री तृप्त राजिंदर बाजवा का रहा। नई सरकार बनी तो अब वो सिद्धू का साथ छोड़ गए। परगट सिंह सिद्धू के करीबी थे, उन्होंने भी सिद्धू के समर्थन में इस्तीफा न देकर किनारा कर लिया। अमरिंदर राजा वडिंग को मंत्री बनाने में सिद्धू ने खूब लॉबिंग की, वो मंत्री बन गए तो अब सिद्धू की सपोर्ट नहीं बल्कि मध्यस्थ बनकर काम कर रहे हैं। इसी बड़ी वजह सिद्धू के अचानक लिए जाने वाले फैसले हैं। पहले कैप्टन और अब सिद्धू के चक्कर में टिकट न कटे, इसलिए विधायक और नेता कूदकर सरकार के पाले में चले गए हैं।

इस बार अपने स्टाइल से खुद झटका खा गए सिद्धू
नवजोत सिद्धू के अचानक फैसले लेने का स्टाइल समर्थकों को खूब रास आता रहा है। उनके बयान से लेकर हर बात पर अड़ जाने की खूब चर्चा रही। सिद्धू की जिद के आगे हाईकमान को कैप्टन को हटाना पड़ा। चरणजीत चन्नी का नाम भी सिद्धू ने ही आगे किया था। चन्नी सीएम बने तो अब सिद्धू की सुनवाई नहीं हो रही। संगठन प्रधान होने के बावजूद वो खुद उसकी सीमा लांघ गए। सब कुछ सार्वजनिक तरीके से कर रहे। सीएम चन्नी ने भी यही बात कही थी कि अगर उन्हें कोई एतराज है तो वो बैठकर बात कर सकते हैं। वो जिद्दी नहीं हैं, फैसला बदला जा सकता है। हालांकि सिद्धू चर्चा नहीं बल्कि सीधे मनमाफिक फैसला चाहते हैं, जिसे हाईकमान मानने को तैयार नहीं है।

खबरें और भी हैं…

For breaking news and live news updates, like Smart Newsline on Facebook or follow us on Twitter & Whatsapp

Hot Topics - Haryana

बैठक आयोजित: काेराेना की तीसरी लहर का खतरा अभी टला नहीं, इसलिए वैक्सीनेशन कैंपों में सहयाेग दें उद्यमी : डीसी

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) पानीपतएक घंटा पहलेकॉपी लिंकउपायुक्त सुशील सारवन कोरोना वैक्सीन लगवाने...

सड़क हादसा: कार ने बाइक में मारी टक्कर, एक की माैत, दूसरा घायल, केस दर्ज

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) पानीपत10 मिनट पहलेकॉपी लिंकगाेहाना राेड पर कार ने फैक्ट्री...

प्रवेश प्रक्रिया: बीएड नियमित प्रथम वर्ष के एडमिशन 7 दिसंबर तक

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) रोहतकएक घंटा पहलेकॉपी लिंकमहर्षि दयानंद विश्वविद्यालय ने सत्र 2021-2022...

Related Articles - Delhi NCR

PM मोदी थोड़ी देर में जेवर एयरपोर्ट का शिलान्यास करेंगे: प्रधानमंत्री के पहुंचने से पहले 60 से ज्यादा किसानों को हिरासत में लिया

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) नोएडाएक दिन पहलेप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी UP में ग्रेटर नोएडा...

हिंदूराव अस्पताल के डॉक्टर हड़ताल पर: आज से नर्सेज और पैरामेडिकल स्टॉफ भी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) नई दिल्लीएक दिन पहलेकॉपी लिंकवेतन, डीए सहित अन्य मांगों...