Global Statistics

All countries
526,343,733
Confirmed
Updated on May 21, 2022 12:21 am
All countries
481,908,153
Recovered
Updated on May 21, 2022 12:21 am
All countries
6,298,507
Deaths
Updated on May 21, 2022 12:21 am

Global Statistics

All countries
526,343,733
Confirmed
Updated on May 21, 2022 12:21 am
All countries
481,908,153
Recovered
Updated on May 21, 2022 12:21 am
All countries
6,298,507
Deaths
Updated on May 21, 2022 12:21 am

छात्रों की बदली शरारतें: पहले क्लास बंक करते थे, अब माइक-वीडियो करते हैं ऑफ; अध्यापकों को कर देते हैं ब्लॉक

Punjab

आतंकवाद विरोधी दिवस पर विशेष: पंजाब में आतंकवाद नहीं लौट सकता ‘नो बेल, ओनली जेल’ पर ही फोकस रखें

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) पंजाबएक घंटा पहलेकॉपी लिंकपुलिस का मुख्य काम प्रदेश में...

नदी में डूबे तीसरे बच्चे का शव भी मिला: लुधियाना में सतलुज में बहे थे 12-13 साल के 3 बच्चे, तीनों का अंतिम संस्कार...

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) लुधियाना21 घंटे पहलेकॉपी लिंकबाएं से आकाशदीप, चरनजीत सिंह और...

व्यक्ति ने की आत्महत्या की कोशिश: जान बची, टांग टूटी; पत्नी के धोखे से दुखी था, जालंधर के नागरा फाटक की घटना

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) जालंधर19 घंटे पहलेकॉपी लिंकपंजाब के जालंधर जिले में विवाहित...

तनखैया थमिंदर सिंह का SGPC पर आरोप: ई-मेल के जरिए भेजा जवाब, मांगी माफी- तख्त पर पेश नहीं हो सकता

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) अमृतसर17 घंटे पहलेकॉपी लिंकश्री गुरु ग्रंथ साहिब को गलतियों...

Smart Newsline (SN)

Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join)

लुधियाना20 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

फाइल फोटो

  • पहले दोस्तों को पेरेंट्स बना ले आते थे स्कूल, अब फोन में अध्यापकों को कर देते हैं ब्लॉक

कोरोना ने एक ओर तो ऑफलाइन एजुकेशन को ऑनलाइन पर ला दिया है। लेकिन साथ ही छोटी क्लासेस से लेकर बड़ी क्लासेस के स्टूडेंट्स का शरारत करने का तरीका भी बदल दिया है। स्टूडेंट्स की इन्हीं बदल रही शरारतों को रिटायर्ड टीचर्स और वर्तमान में क्लासेस ले रहे टीचर्स ने साझा किया।

इतना ही नहीं ऑनलाइन क्लासेस लगने से न सिर्फ बच्चा बल्कि पूरा परिवार ही टीचर और उनके पढ़ाने के तरीके को देखने के लिए ऑनलाइन क्लास में साथ बैठने लगा। इससे भी कई तरह के मजेदार पलों को अध्यापक याद करते हैं और हंसते हैं। रिटायर्ड प्रिंसिपल डॉ. मोहिंदर कौर ग्रेवाल के मुताबिक कॉलेज में लड़कियां अपना ग्रुप बना कर तय करती थी कि कौन सा लेक्चर बंक करना है। फिजिकल क्लास में हर बच्चे को समझने का मौका मिल जाता था।

ऑनलाइन क्लास में बच्चों के साथ-साथ पेरेंट्स के भी मजेदार किस्से- टीचर्स ते वेहले आ कदे वी लै लेणगे क्लास, तू नहा लै…

ऑनलाइन क्लासेस में सभी बच्चों को एक समय पर ले कर आना मुश्किल था। जिनके पेरेंट्स सुबह फ्री होते थे हम क्लास सुबह लगा लेते थे। कई बार शाम 7-8 बजे तक भी क्लास लगती थी। पेरेंट्स भी नहीं समझ पाते थे कि अध्यापकों की क्या समस्या है। ऐसी ही एक क्लास में एक बच्चे की मां ने लाइव क्लास के दौरान कहा कि टीचर्स ते वेहले आ कदे वी लै लेणगे तेरी क्लास, तू नहा लै।’ ऐसे कई किस्से ऑनलाइन क्लास के दौरान होते रहे।

-रेणू पुरी, टीचर चनन देवी मेमोरियल गवर्नमेंट प्राइमरी स्कूल

ऑनलाइन क्लास में बच्चे अपने पूरे परिवार को साथ बैठाते थे। एक बार एक बच्चे के पेरेंट्स को मैंने बताया कि पढ़ने की ओर बच्चे का ध्यान कम हो रहा है इस पर उसकी मां ने लाइव क्लास में ही उसकी पिटाई कर दी। ऑनलाइन टेस्ट में बच्चे इंटरनेट बंद या माइक और वीडियो ऑफ कर देते हैं।

-नरिंदर सिंह, अध्यापक, गवर्नमेंट प्राइमरी स्मार्ट स्कूल जंडियाली

क्लास में तो बच्चे पानी पीने या टॉयलेट के बहाने लेट आते थे। अब देरी से लॉगइन करते हैं और पूछने पर इंटरनेट स्लो की शिकायत कर देते हैं। हालांकि अभी ऑफलाइन क्लासेस शुरू हो चुकी हैं। अगर बच्चों को पूछो कि आप स्कूल क्यों नहीं आ रहे तो कहते हैं मैडम अब बैड पर बैठ कर पढ़ने पर ही टॉपिक समझ में आता है।

-सीमा महाजन, टीचर, बीसीएम स्कूल दुगरी

ऑफलाइन क्लासेस के दौर में स्टूडेंट्स की शरारतें और मस्तियां भी अलग थी। मेरा पढ़ाने का तरीका अलग था। ऐसे में बच्चे मेरी छुट्टी वाले दिन मेरी नकल करते थे। टेस्ट से बचने के लिए स्टूडेंट्स कई तरह की शरारतें करते थे ताकि टेस्ट से बच जाएं। लेकिन बच्चे स्कूल आने पर नई बातें भी सीखते थे। अब वो चीज काफी कम हो रही हैं।
– सुखराम, रिटायर्ड हेड टीचर

पहले के समय में बच्चे टीचर्स के निक नेम रखते थे। वहीं, रिपोर्ट कार्ड पर भी खुद ही साइन कर ले आते थे। छोटे बच्चों में टीचर से शिकायत लगाने की आदत होती थी। वहीं, बड़े बच्चे क्लास का ध्यान पढ़ाई से डायवर्ट करने के बारे में सोचते थे। फिजिकल क्लासेस में वो अपनी जिम्मेदारियों को सीखते थे।

-अनूप पासी, रिटायर्ड प्रिंसिपल

खबरें और भी हैं…

For breaking news and live news updates, like Smart Newsline on Facebook or follow us on Twitter & Whatsapp

Hot Topics - Haryana

स्‍वास्‍थ्‍य: कमला धर्मशाला में 22 मई काे लगेगा नि:शुल्क ईएनटी शिविर

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) महेंद्रगढ़2 घंटे पहलेकॉपी लिंकसाेलूवाला चैरिटेबल ट्रस्ट के तत्वावधान में...

AAP सांसद सुशील गुप्ता का बड़ा बयान: कहा- हरियाणा में सरकारी गुंडों का बोलबाला; कुलदीप बिश्नोई अच्छे नेता, आते हैं तो स्वागत है

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) रेवाड़ी16 घंटे पहलेआम आदमी पार्टी के हरियाणा प्रभारी और...

Related Articles - Delhi NCR

स्वास्थ्य को लेकर सतर्कता:: जिले के 6.5 लाख बच्चों व 50 हजार युवतियों को खिलाई जाएगी पेट में कीड़े मारने की दवा

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) फरीदाबाद3 घंटे पहलेकॉपी लिंकस्वास्थ्य विभाग ने की तैयारी, इससे...

हत्या या हादसा:: पार्क में मिला व्यक्ति का शव, सिर में चोट के निशान, हत्या की आंशका, पुलिस जांच में जुटी

Smart Newsline (SN) Get Latest News from Smart Newsline on Whatsapp (Click to Join) फरीदाबाद2 घंटे पहलेकॉपी लिंकसेक्टर 21 बी रेलवे लाइन के...