Wednesday, June 16, 2021

Uttar Pradesh (UP) Coronavirus Report LIVE Update; Yogi Adityanath | Nobody Wants COVID Test In UP | हर दूसरे घर में 3-4 लोगों में कोरोना के लक्षण, कोई नहीं चाहता टेस्ट कराना; मेडिकल स्टोर पर दवाएं मिलना भी मुश्किल

Must Read

North Korea’s Kim looks much thinner, causing health speculation | World News

For breaking news and live news updates, Join us on Whatsapp The health of North Korean leader Kim Jong...

Defence minister should be fired, Canada’s opposition demands | World News

For breaking news and live news updates, Join us on Whatsapp Canada’s opposition has demanded that minister of national...

Joe Biden Vladimir Putin Meeting; Geneva Summit 2021 News | New Hope For Us Russia Diplomatic Relations In Geneva Summit | टकराव के मुद्दे...

For breaking news and live news updates, Join us on Whatsapp InternationalJoe Biden Vladimir Putin Meeting; Geneva Summit 2021...

For breaking news and live news updates, Join us on Whatsapp

  • Hindi News
  • National
  • Uttar Pradesh (UP) Coronavirus Report LIVE Update; Yogi Adityanath | Nobody Wants COVID Test In UP

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें Smart Newsline ऐप

  • एक महीने के अंदर कोरोना के मामलों में 200% से ज्यादा का इजाफा हुआ

शहरों में कहर बरपा रहा कोरोना अब उत्तर प्रदेश के गांवों की तरफ भी बढ़ चुका है। आंकड़े भी इस बात की तस्दीक कर रहे हैं। लेकिन ये आंकड़े भी अभी अधूरे ही हैं। ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि गांवों के ज्यादातर लोग टेस्ट नहीं करा रहे हैं। जबकि, लगभग हर दूसरे घर में 3-4 लोगों में संक्रमण के गंभीर लक्षण हैं। लोग खुद बता भी रहे हैं कि उन्हें सर्दी, जुखाम, खांसी और बुखार है। लोगों को स्वाद और महक न आने की समस्या भी है। अगर समय रहते इस पर काबू नहीं किया गया तो आने वाले दिनों में हालात बेहद खराब हो सकते हैं। हम आपको ऐसे ही 5 जिलों के 150 गांवों की LIVE रिपोर्ट देने जा रहे हैं…

फोटो वाराणसी के आशापुर की है। यहां अभी भी लोग लापरवाही बरत रहे हैं। बाजारों में भीड़ जुट रही। पुलिस हर दिन दुकानदारों को चेतावनी दे रही है।

फोटो वाराणसी के आशापुर की है। यहां अभी भी लोग लापरवाही बरत रहे हैं। बाजारों में भीड़ जुट रही। पुलिस हर दिन दुकानदारों को चेतावनी दे रही है।

वाराणसी : 8 ब्लॉक के 22 गांवों में एक महीने में 70 से ज्यादा मौतें
हमने जिले के 8 ब्लॉक के 22 गांवों का जायजा लिया। इनमें पिछले एक महीने के दौरान 70 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है। मरने वालों में कोरोना के लक्षण थे, लेकिन किसी का टेस्ट नहीं हुआ था। धौरहरा गांव में रामदुलार यादव, पूनम पांडेय, अतुल चौबे, पलकहां गांव के पूर्व प्रधान रामबली यादव समेत कुछ और लोगों की मौत हुई है। इन सभी को तेज बुखार, सर्दी और खांसी की शिकायत थी। इनकी मौत 2 मई को हुई। इसी तरह कुकुढहां गांव में डॉ. नंदलाल ने दम तोड़ दिया। इन्हें भी बुखार की ही समस्या थी।

इसी तरह बड़ी संख्या में लोग अजांव, बर्थरा खुर्द, चौबेपुर, भगतुआ, कुकुढंहां, शिवदशां, छित्तमपुर, कादीपुर कलां गांव, सुंगुलपुर, भंदहा समेत कई गांवों में लोग बीमार हैं। ये लोग गांव के मेडिकल स्टोर से ही दवाइयां लेते हैं, लेकिन आजकल इसमें भी काफी मशक्कत करनी पड़ती है। वहीं, पचवार गांव में अब तक सात, खरगूपुर में चार, तिवारीपुर में दो, भटौली में दो, हाथी बाजार में चार, तेंदुई में चार, रामेश्वर में पांच, हरिभानपुर, आराजी लाइन विकासखंड के गहरपुर (खड़ौरा) में पांच लोगों की पिछले कुछ दिनों में जान जा चुकी है।

यहां हाथी बाजार में स्थित एक मेडिकल स्टोर संचालक ने बताया कि इन दिनों सामान्य बुखार की दवाइयां भी मिलना मुश्किल हो गया है। कोरोना के लक्षण दिखने पर लोगों को टेस्ट कराने की सलाह देते हैं, लेकिन लोग मना कर देते हैं। किसी तरह उन्हें सप्लीमेंट्री दवाइयां दी जा रही हैं, जिससे वह ठीक हो सकें।

गोरखपुर के कैंपियरगंज में अभी भी दुकानों पर लोग बगैर सोशल डिस्टेंसिंग के दिख रहे।

गोरखपुर के कैंपियरगंज में अभी भी दुकानों पर लोग बगैर सोशल डिस्टेंसिंग के दिख रहे।

गोरखपुर : सरकारी सर्वे में ही खुली पोल, तीन दिन में 5 हजार संदिग्ध मिले
जिले के ग्रामीण इलाकों में 24 सीएचसी और 18 पीएचसी है। इसके अंतर्गत 50 से ज्यादा गांव हैं। यहां के लोग इन्हीं अस्पतालों में जाते हैं। यहां ग्रामीण लोग जाकर अपनी छोटी-मोटी बीमारियों का इलाज कराते हैं। इन अस्पतालों में अभी ज्यादातर लोग सर्दी, जुखाम और बुखार से पीड़ित पहुंच रहे हैं। कैम्पियरगंज सीएचसी में हर रोज 30 से 35 मरीज सामने आ रहे हैं। इस अस्पताल में पिछले पांच दिन में कुल 348 सैंपलिंग हुई, इसमें 28 पॉजिटिव मिले। ग्राम इंदरपुर में मामले ज्यादा है। यहां दो दिन में बुखार से 415 लोग पीड़ित मिले।
इसी तरह खजनी पीएचसी में हर दिन 30-40 मरीज बुखार का इलाज कराने पहुंच रहे हैं। पांच दिन में यहां 17 लोग अस्पताल की जांच में संक्रमित मिले। दो दिन में बहुरिपार, बघैला, पैसा में 350 बुखार से पीड़ितों को दवाएं दी गईं। लोगों ने बताया कि सर्दी, जुकाम और हल्का बुखार है।
ऐसे ही हालात ब्रह्मपुर पीएचसी, खोराबार पीएचसी, पिपराइच सीएचसी, बासगांव पीएचसी, सीएचसी पाली, बड़हलगंज सीएचसी, भटहट सीएचसी, सरदारनगर पीएचसी, जंगल कौड़िया पीएचसी और जंगल कौड़िया पीएचसी में भी हैं। इन सभी जगह तीन दिन के अंदर करीब 5 हजार से ज्यादा संदिग्ध मिल चुके हैं।

गाजीपुर के जंगीपुर में अभी भी कई लोग बगैर मास्क के ही बाहर निकल रहे हैं।

गाजीपुर के जंगीपुर में अभी भी कई लोग बगैर मास्क के ही बाहर निकल रहे हैं।

गाजीपुर : एक महीने के अंदर 20 गांवों में 59 से ज्यादा मौतें
पूर्वांचल का ये जिला काफी महत्वपूर्ण है। बनारस से सटे होने के चलते जिले में पिछले एक महीने के अंदर कोरोना के मामलों में 200% से ज्यादा का इजाफा हुआ है। यहां अब तक 17 हजार 950 लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। इनमें 3,389 मरीजों का इलाज चल रहा है, जबकि 14 हजार 415 लोग ठीक हो चुके हैं। संक्रमण के चलते अब तक 146 लोगों की मौत हो चुकी है।
यहां के विरनो, करणडा, देवकली, जखनिया, सादात, मनिहारी, रेवतीपुर, भांवरकोल विकासखंड में आने वाले 20 गांवों में पिछले एक महीने के अंदर 59 से ज्यादा लोगों ने जान गंवाई है। देवकली के शिवम कुमार बताते हैं कि उनके यहां एक हफ्ते में ही 8 लोगों की मौत हुई है। गांव भर में लोग बुखार, सर्दी, जुखाम से पीड़ित हैं। रेवतीपुर के घनश्याम, बहरियाबाद के पप्पू निषाद, हाजीपुर के अरविंद बताते हैं कि लोग संक्रमण के लक्षण होने के बावजूद अपना टेस्ट नहीं करा रहे हैं।

यह तस्वीर आजमगढ़ के लालगंज की है। यहां लॉकडाउन के बावजूद बैक डोर से दुकानदार लोगों को सामान बेच रहे हैं। पुलिस ऐसी दुकानों पर छापेमारी भी कर रही है।

यह तस्वीर आजमगढ़ के लालगंज की है। यहां लॉकडाउन के बावजूद बैक डोर से दुकानदार लोगों को सामान बेच रहे हैं। पुलिस ऐसी दुकानों पर छापेमारी भी कर रही है।

आजमगढ़ : हर घंटे 2 से 3 लोगों की मौत हो रही
इस जिले में हर घंटे 2 से 3 लोगों की मौत हो रही है। मरने वाले 98% लोग बुखार, स्वाद का न आना, सांस लेने में समस्या झेल रहे थे। तरवां के मुकेश बताते हैं कि उनके बाबा की 6 मई को निधन हो गया था। उन्हें कई दिनों से खांसी और बुखार था। मेडिकल स्टोर से दवा दिलाया था, लेकिन कोई असर नहीं हुआ। परमानपुर के भोला सिंह बताते हैं कि उनके यहां गांव में पिछले 15 दिनों में 9 लोगों की जान जा चुकी है। 27 से ज्यादा लोग अभी बीमार हैं। हर किसी में कोरोना के ही लक्षण हैं। बुढ़नपुर, लालगंज, मार्टिनगंज, फूलपुर और सगड़ी के 30 गांवों के 8 हजार से ज्यादा लोग इन दिनों बीमार चल रहे हैं। इन गांवों में पिछले एक महीने के अंदर 45 से ज्यादा लोग जान गंवा चुके हैं।

मऊ में लॉकडाउन के बावजूद बड़ी संख्या में लोग बाजारों में निकल रहे हैं और एटीएम- और बैंकों में कतारें लग रहीं।

मऊ में लॉकडाउन के बावजूद बड़ी संख्या में लोग बाजारों में निकल रहे हैं और एटीएम- और बैंकों में कतारें लग रहीं।

मऊ : 10 गांवों में कोरोना के 3 हजार से ज्यादा संदिग्ध
जिले में अब तक सरकारी आंकड़े के अनुसार 7,154 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए जा चुके हैं। इनमें 45 की मौत हुई है। अब हकीकत देखें तो यहां के 28 गांवों में हालात बेहद खराब हैं। मुहम्मदाबाद गोहना, घोसी और मधुबन के गांवों में 3000 से ज्यादा लोग कोरोना के संदिग्ध हैं।

अब तक इन गांवों में 15 दिन के अंदर 34 से ज्यादा लोगों की मौत भी हो चुकी है। घोसी के लल्लू, श्याम बिहारी, लोटन, नंदू के घर 5 लोगों की मौत हो चुकी है। मरने वालों की उम्र 45 से 77 साल तक थी। ये सभी लंबे समय से बुखार, खांसी और सांस लेने में तकलीफ झेल रहे थे। हालांकि, इन लोगों ने कोरोना का टेस्ट नहीं कराया था। जब इन्हें कोरोना को लेकर सवाल पूछा गया तो बोले- ये गांव में नहीं फैलता है। मउनाथ भंजन के खोखाराम कहते हैं कि उनकी 48 साल की पत्नी ने बुखार आने के तीन दिन के अंदर दम तोड़ दिया। मेडिकल स्टोर से ही दवा लेकर वह इलाज करा रहे थे।

खबरें और भी हैं…

For breaking news and live news updates, like us on Facebook or Whatsapp or follow us on Twitter and Linkedin. Read more on Latest India News on Smart Newsline



Latest News

Janhvi Kapoor runs off into the sunset with friend, takes a dip in the sea and poses on the beach. See photos | Bollywood

For breaking news and live news updates, Join us on Whatsapp Janhvi Kapoor headed to the beach to soak up some sun. She treated...

know lagaan’s ishwar kaka aka shrivallabh vyas tragic life story | ‘लगान’ के ‘ईश्वर काका’ की कहानी, शूटिंग करते हुए आया था पैरालिसिस अटैक,...

For breaking news and live news updates, Join us on Whatsapp बॉलीवुड की ऑस्कर नोमिनेटेड फिल्म 'लगान' ने रिलीज के 20 साल पूरे कर...

Kanika Dhillon Vs Navjot Gulati: Battle over story credit accelerates in Bollywood | Bollywood

For breaking news and live news updates, Join us on Whatsapp The feud between writer Kanika Dhillon and writer-director Navjot Gulati after his distasteful...

Veteran actor Chandrashekhar passes away at the age of 97, he didn’t have any disease | दिग्गज एक्टर चंद्रशेखर का 97 साल की उम्र...

For breaking news and live news updates, Join us on Whatsapp बीते जमाने के दिग्गज बॉलीवुड एक्टर चंद्रशेखर का आज (बुधवार को) निधन हो...

More Articles Like This