Monday, June 21, 2021

Black Fungus Infection In Bihar; Government Ayurvedic College Is Using Jalauka Method | डॉक्टरों ने जलौका विधि को बताया कारगर, इसमें मरीजों का गंदा खून चूसकर फंगस को मात देगी जोंक

Must Read

Canada to extend flight suspension to India for another month | World News

For breaking news and live news updates, Join us on Whatsapp The Canadian government is expected to extend the...

Brazil passes half a million Covid-19 deaths, experts warn of worse ahead | World News

For breaking news and live news updates, Join us on Whatsapp Brazil's death toll from Covid-19 surpassed 500,000 on...

Coronavirus Outbreak/Vaccine Latest Update; USA Brazil Russia UK France Cases and Deaths from COVID-19 Virus | पिछले 24 घंटे में 2.95 लाख केस, 3.25...

For breaking news and live news updates, Join us on Whatsapp InternationalCoronavirus Outbreak Vaccine Latest Update; USA Brazil Russia...

For breaking news and live news updates, Join us on Whatsapp

  • Local
  • Bihar
  • Black Fungus Infection In Bihar; Government Ayurvedic College Is Using Jalauka Method

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें Smart Newsline ऐप

ब्लैक फंगस से पीड़ित मरीज का हो रहा है इलाज।

  • राजकीय आयुर्वेदिक कॉलेज में फंगस के इलाज को लेकर चल रही विशेष तैयारी

कोरोना महामारी से ठीक होने के बाद मरीजों को जानलेवा ब्लैक फंगस अपनी चपेट में ले रहा है। इस फंगस से पूरी दुनिया लड़ रही है। इस बीच बिहार के डॉक्टरों ने ब्लैक फंगस को मात देने का आयुर्वेदिक इलाज खोजने का दावा किया है। बता दें कि बिहार में भी ब्लैक फंगस के 40 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं, हालांकि अभी तक इसकी कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है।

दरअसल, बिहार के राजकीय आयुर्वेदिक कॉलेज के डॉक्टर जाेंक के जरिए इस फंगस के इलाज का दावा कर रहे हैं। जोंक की खासियत है कि यह शरीर से गंदा खून चूसकर डेड सेल को नष्ट कर देती है। शरीर में कहीं भी स्किन खराब होने और रक्त संचार बंद होने की स्थिति में वहां डेड सेल को एक्टिव करने में जाेंक काफी मददगार होती है। डॉक्टर इस इलाज की विधि को जलौका कहते हैं।

राजकीय आयुर्वेदिक कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. दिनेश्वर प्रसाद का कहना है कि गंभीर फंगस के लिए जलौका पद्धति सदियों से कारगर रही है। नए मामले आते हैं तो इसका इस्तेमाल किया जाएगा। हालांकि, आयुर्वेदिक कॉलेज के पास अब तक ब्लैक फंगस का कोई मामला सामने नहीं आया है, लेकिन डॉक्टर इस इलाज को आगे बढ़ाने के लिए जोंक की तलाश में जुट गए हैं।

ब्लैक फंगस सीधे आंखों को करता है नुकसान।

ब्लैक फंगस सीधे आंखों को करता है नुकसान।

ग्लूकोमा के लिए लाइन ऑफ ट्रीटमेंट हैं जलौका पद्धति
डॉ. प्रसाद बताते हैं कि जलौका पद्धति में जोंक का इस्तेमाल किया जाता है। इस पद्धति को ग्लूकोमा के मरीजों के लिए लाइन ऑफ ट्रीटमेंट कहा जाता है। यह काफी प्राचीन और प्रचलित है। इस पद्धति से ग्लूकोमा के साथ फंगस का उपचार किया जाता है।

डॉ. प्रसाद का कहना है कि पोस्ट कोविड के मामले बहुत आ रहे हैं। इसमें फंगस के भी मामले हैं। ऐसे मामलों को को लेकर हम विशेष रूप से तैयारी कर रहे हैं। पोस्ट कोविड को लेकर काम किया जा रहा है। इसमें अन्य चिकित्सा विधि के साथ जलौका काे लेकर भी तैयारी है।

डॉ प्रसाद बताते हैं कि पंचकर्म के साथ आयुर्वेद की अन्य कई क्रियाएं होती हैं। पोस्ट कोविड के अधिकतर मामलों में किडनी लीवर और फंगस के साथ अन्य बीमारी सामने आ रही है। ऐसे में पंचकर्म काफी सहायक होता है।

आंख में सूजन के लिए कारगर है जलौका पद्धति
डॉ दिनेश्वर प्रसाद का कहना है कि आंखों में सूजन और शरीर में कहीं भी एबनॉर्मल ग्रोथ में जोंक का उपचार अच्छा काम कर रहा है। आंख के ऊपर अगर खून जमा होने से जोंक को आंख पर रखा जाता है जो गंदा खून को चूसने का काम करता है। गंदा खून चूसने के बाद स्किन नॉर्मल हो जाती है। आंख के मामलों में यह पद्धति काफी लाभदायक है।

जोंक की हो रही है तलाश
डॉ. प्रसाद का कहना है कि जकौला पद्धति से इलाज के लिए जोंक का होना जरूरी है। इसके लिए जोंक की तलाश की जा रही है। जोंक ग्रामीण इलाकों में बहुत मिलती है। जहां भैंस रहती हैं पानी में जानवर होते हैं और पानी का बहाव कम होता है ऐसे जगह पर जोंक मिलते हैं। राजकीय आयुर्वेद कॉलेज में पढ़ाई कर रहे स्टूडेंट्स के साथ मरीजों से भी जोंक के लिए बोला जा रहा है। जोंक की व्यवस्था होने के बाद जलौका का इलाज होने लगेगा। इसमें बालों के उड़ जाने के साथ अन्य कई गंभीर मामलों में इस विधि से इलाज किया जाएगा।

एंटी फंगल दवा या सर्जरी से हो सकता है इलाज
जब इस बारे में पटना AIIMS के कोविड 19 के नोडल ऑफिसर डॉ संजीव कुमार से बात की गई तो उन्होंने कहा कि फंगल इंफेक्शन का ट्रीटमेंट एंटी फंगल मेडिसिन या फिर सर्जरी से किया जा सकता है।

बढ़ रही है ब्लैक फंगस के मरीजों की संख्या
किसी भी फंगस के इलाज में जलौका पद्धति काफी प्राचीन और प्रचलित है। प्रदेश में ब्लैक फंगस के मरीजों की संख्या बढ़ रही है। मुजफ्फरपुर में 2 की मौत भी हो गई। लेकिन, आधिकारिक तौर पर इसकी पुष्टि नहीं हुई है। पटना एम्स में ब्लैक फंगस के 21 मरीज भर्ती हैं। IGIMS में 9 मरीज हैं। जिसमें 6 की पुष्टि हुई है और 3 संदिग्ध हैं। कई मरीजों का इलाज तो चल रहा है। लेकिन, ब्लैक फंगस होने की पुष्टि नहीं की जा रही है। इस बीमारी में कालाजार वाला इंजेक्शन भी काम आ रहा है। सरकार ने इसकी अनुमति भी दी है।

खबरें और भी हैं…

For breaking news and live news updates, like us on Facebook or Whatsapp or follow us on Twitter and Linkedin. Read more on Latest India News on Smart Newsline



Latest News

Shilpa Shetty shares new pic of kids Samisha and Viaan with ‘bestest papa’ Raj Kundra. See here | Bollywood

For breaking news and live news updates, Join us on Whatsapp Shilpa Shetty shared a new picture of her husband, businessman Raj Kundra, and...

Inside Janhvi Kapoor and Arjun Kapoor’s Father’s Day dinner with Boney: ‘Dad’s kids’ and all smiles | Bollywood

For breaking news and live news updates, Join us on Whatsapp Janhvi Kapoor shared a picture from her Father’s Day dinner with Boney Kapoor,...

Priyanka Chopra plays with Disney filter in new video, asks fans ‘You think I am a bad girl?’ | Bollywood

For breaking news and live news updates, Join us on Whatsapp Priyanka Chopra tried out the Disney filter that has taken over social media....

Kartik Aryan New Projects With Different Type Action, Rashi Khanna shared the condition of actresses in the South Indian film industry | नए प्रोजेक्ट...

For breaking news and live news updates, Join us on Whatsapp EntertainmentBollywoodKartik Aryan New Projects With Different Type Action, Rashi Khanna Shared The Condition...

More Articles Like This