Friday, May 7, 2021

america is Sitting on Tens of Millions of Vaccine Doses the World Needs | एस्ट्राजेनेका कोरोना वैक्सीन की करोड़ो डोज दबाए बैठा है अमेरिका , न जरूरतमंद देशों को दे रहा न खुद कर रहा इस्तेमाल

Must Read

Third wave of pandemic ‘appears to be broken’: German health minister

"The third wave appears to be broken," Spahn told a regular weekly news briefing on Germany's pandemic management. Reuters | PUBLISHED...

UK’s Conservative Party strikes early blow in opposition stronghold

Britain's governing Conservative Party has won a special election in the north of England town of Hartlepool, dealing a...

President Putin compared the Sputnik vaccine to the rifle, saying – it is as reliable, modern and up-to-date as the AK-47 | व्लामिदिर पुतिन...

Hindi NewsInternationalPresident Putin Compared The Sputnik Vaccine To The Rifle, Saying It Is As Reliable, Modern And Up to...

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें Smart Newsline ऐप

अमेरिका एस्ट्राजेनेका कोरोना वैक्सीन की करोड़ों डोज दबाए बैठा है। क्लीनिकल टेस्ट के नतीजे न आने की वजह से अमेरिका न खुद इन टीकों का इस्तेमाल कर रहा है और न उन जरूरतमंद देशों को दे रहा है, जो इस वैक्सीन मान्यता दे चुके हैं। बाइडेन प्रशासन के एक सीनियर अधिकारी के अनुसार, एस्ट्राजेनेका वैक्सीन व्हाइट हाउस और फेडरल हेल्थ ऑफिशियल के लिए बहस का अहम मुद्दा बन चुका है। कुछ लोगों का कहना है प्रशासन को तैयार वैक्सीन के डोज उन देशों में भेज देने चाहिए, जहां लोग बेसब्री से इसका इंतजार कर रहे हैं। जबकि कुछ इसके लिए तैयार नहीं हैं।

एस्ट्राजेनेका के स्पोकपर्सन गोंजालो वेना ने कहा कि ‘हमें लगता है कि दूसरी सरकारें भी अमेरिकी सरकार के पास इस वैक्सीन को डोनेट करने की बात लेकर पहुंच चुकी हैं, इसलिए हमने अमेरिकी सरकार से कहा है कि ऐसे मामलों पर सोच समझकर फैसला करें।’

अमेरिकी प्रेसिडेंट ने यूरोपीय यूनियन को वैक्सीन भेजने से इनकार किया
वैक्सीन स्टॉक से जुड़े एक अधिकारी का कहना है कि करीब 30 मिलियन वैक्सीन की डोज वेस्ट चेस्टर, ओहियो में तैयार रखे हैं। मैरीलैंड की एक कंपनी एमर्जेंट बायो सॉल्युशंस, जिसे एस्ट्राजेनेका ने संयुक्त राज्य में वैक्सीन की मैन्युफैक्चरिंग के लिए अनुबंधित किया है, उसने भी बाल्टिमोर में 1 करोड़ से अधिक डोज के लिए पर्याप्त वैक्सीन बना ली है। हालांकि, कंपनी के स्पोकपर्सन के मुताबिक एस्ट्राजेनेका वैक्सीन को 70 से अधिक देशों में मान्यता मिल चुकी है, लेकिन अमेरिकन क्लिनिकल ट्रायल ने अब तक रिजल्ट नहीं बताए हैं और कंपनी ने अभी तक फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन में इमरजेंसी यूज ऑथराइजेशन के लिए अप्लाई नहीं किया है। एस्ट्राजेनेका ने बाइडेन प्रशासन से यूरोपीय यूनियन को वैक्सीन की अमेरिकी डोज भेजने के बारे में कहा है, जिसके लिए प्रशासन ने इनकार कर दिया है।

बाइडेन का दावा मई के अंत तक अमेरिकी लोगों के लिए पर्याप्त डोज तैयार होंगे

अमेरिका से बाहर दूसरे देशों में वैक्सीन भेजने पर व्हाइट हाउस अगले कुछ हफ्तों में फैसला ले सकता है। हालांकि ब्राजील को वैक्सीन देने के मामले में अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। संभवतः बाइडेन प्रशासन अमेरिका में वैक्सीन के डोज पूरे होने को लेकर चिंतित हैं क्योंकि वैक्सीन का उत्पादन बेहद पेचीदा काम है। दरअसल, प्रेसिडेंट बाइडेन यह दावा कर चुके हैं कि मई के अंत तक हर अमेरिकी वयस्क के लिए पर्याप्त वैक्सीन की डोज होंगी।

ट्रम्प ने वैक्सीन के लिए एस्ट्राजेनेका को 1.2 बिलियन डॉलर देने का वादा किया था
पिछले साल मई में ट्रम्प प्रशासन ने कोरोना वैक्सीन के लिए एस्ट्राजेनेका को 1.2 बिलियन डॉलर देने का वादा किया था और इसके प्रभावी साबित होने पर 300 मिलियन डोज की सप्लाई के बारे में कहा था। अमेरिकी रेगुलेटर और एस्ट्राजेनेका के बीच बातचीत कुछ बनी नहीं जिसके चलते दोनों के रिश्तों में खटास आई और वैक्सीन का डेवलपमेंट धीमा हो गया। सात हफ्ते तक फाइनल ट्रायल नहीं हो सका। क्योंकि कंपनी अपने दो वॉलेंटियर पर वैक्सीन के ट्रायल का डाटा नहीं दे पाई थी।

दूसरे देशों के तभी वैक्सीन भेजी जाएगी जब अमेरिकी लोगों के लिए पर्याप्त डोज होंगे
कंपनी को फिलहाल एक और डर सता रहा है, क्योंकि डेनमार्क, नॉर्वे और आइलैंड में स्वास्थ्य अधिकारियों ने वैक्सीन के ट्रायल के वक्त कुछ लोगों में ब्लड क्लॉट के चलते वैक्सीन यूज को सस्पेंड कर दिया है। हालांकि इस पर यूरोपीय अधिकारियों और कंपनी का कहना है कि इस बात के कोई सबूत नहीं है। राष्ट्रपति बाइडेन ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि अगर हमारे पास वैक्सीन की पर्याप्त डोज होंगी, तभी हम उसे पूरी दुनिया में भेजेंगे। लेकिन अमेरिकी नागरिकों को प्राथमिकता दी जाएगी।

जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन समय पर तैयार नहीं
अमेरिकी और यूरोपियन अधिकारियों के मुताबिक अमेरिका में वैक्सीन बनाने के लिए आथोराइज जॉनसन एंड जॉनसन ने अमेरिकी प्रशासन से यूरोपियन यूनियन को वैक्सीन देने के लिए कहा। क्योंकि वह समय पर अपनी वैक्सीन के पर्याप्त डोज तैयार नहीं कर पाई लेकिन बाइडेन प्रशासन ने इसे खारिज कर दिया।

इटली ने रोका ऑस्ट्रेलिया का वैक्सीन शिपमेंट
यूरोपियन यूनियन को वैक्सीन नेशनलिज्म को लेकर आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। पिछले हफ्ते यह मामला और बढ़ गया जब इटली ने ऑस्ट्रेलिया जाने वाली वैक्सीन का शिपमेंट रोक दिया। वहीं, दूसरी ओर यूरोपियन यूनियन ने हाल के सप्ताहों में कई देशों में करीब 34 मिलियन कोरोना वायरस वैक्सीन भेजी है, जबकि उन्हें खुद वैक्सीन की शॉर्टेज झेलनी पड़ रही है।

यूरोपीय अधिकारी अमेरिका को दोष दे रहे हैं
यूरोपीय काउंसिल के प्रेसिडेंट चार्ल्स माइकल का कहना है कि अमेरिका ने ब्रिटेन के साथ मिलकर वैक्सीन के निर्यात पर रोक लगा रखी है। व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव जेन साकी ने कहा की एस्ट्राजेनेका अमेरिका में बनी अपनी वैक्सीन की सप्लाई के लिए पूरी तरह स्वतंत्र है, हालांकि उन्हें सरकार के साथ किया हुआ कॉन्ट्रैक्ट ध्यान में रखना होगा। क्योंकि एस्ट्राजेनेका वैक्सीन डिफेंस प्रोडक्शन एक्ट की सहायता से बनाई गई है इसलिए इसके शिपमेंट पर बाइडेन की मुहर लगना जरूरी है।

जॉनसन एंड जॉनसन की वनशॉट वैक्सीन ज्यादा प्रभावी
इस बीच अमेरिकी रेगुलेटर एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन के फाइनल ट्रायल के डाटा का इंतजार कर रहे हैं जिसमें अमेरिका के करीब 32,000 प्रतिभागी शामिल हुए थे। उन्हें उम्मीद है कि एस्ट्राजेनेका पहले की तरह इस बार भी यह डाटा उपलब्ध कराने में देर करेगा। फेडरल अधिकारियों के मानना है कि साइड इफेक्ट के बारे में जानने के लिए प्रतिभागियों की लंबे समय तक निगरानी की जाती है, इस वजह से डाटा देरी से मिलता है। विशेषज्ञों का मानना ​​है कि वैक्सीन जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन ज्यादा प्रभावी होगी, जिसमें सिर्फ एक शॉट दिया जाएगा।

फाइजर-बायोएनटेक और मॉर्डेना की वैक्सीन 95 % तक प्रभावी
फिलहाल अमेरिका दी जा रही वैक्सीन भी एस्ट्राजेनेका से ज्यादा प्रभावी है। जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन डिस्ट्रीब्यूशन में आसान है और इससे कोई गंभीर बीमारी को होने की संभावना भी नहीं है। अलग तरीके से बनी फाइजर-बायोएनटेक और मॉर्डेना की वैक्सीन की करीब 95 % तक प्रभावी हैं। फेडरल अधिकारियों ने भी इस बात पर जोर दिया है कि एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन को अनिश्चित काल तक स्टोर नहीं किया जाना चाहिए, क्योंकि इस वैक्सीन की एक सीमित शैल्फ लाइफ है। वैक्सीन को छह महीने तक रेफ्रिजरेटर में रखा जा सकता है। कुछ देश दो महीने के गैप में इसकी दूसरी डोज दे रहे हैं। जिससे कि वैक्सीन की खराब हो जाने की चांसेस बढ़ जाते हैं।

अमेरिकी सरकार का पूरा ध्यान जॉनसन एंड जॉनसन की वन शॉट वैक्सीन पर
राष्ट्रपति बाइडेन वैक्सीन के उत्पादन को बढ़ाने के लिए कदम उठा रहे हैं। इस साल के अंत तक 100 करोड़ से अधिक डोज तैयार होने की संभावना है। वैक्सीन डोज की यह संख्या उन 26 करोड़ वयस्क लोगों की जरूरत से बहुत ज्यादा है जिन्हें वैक्सीन लगनी है। फिलहाल बाइडेन प्रशासन का पूरा ध्यान जॉनसन एंड जॉनसन की वन शॉट वैक्सीन पर है। वह दिग्गज कंपनी मर्क मैन्युफैक्चरिंग के साथ मिलकर इसकी करोड़ों डोज बनाने की तैयारी में है।

खबरें और भी हैं…

Follow @ Facebook

Follow @ Twitter

Follow @ Telegram

Updates on Whatsapp – Coming Soon

Latest News

Did you know Amrita Rao was the first choice to play Priyanka Chopra’s role in Hrithik Roshan’s Krrish?

Amrita Rao had starred in movies like Ishq Vishk, Masti, and Main Hoon Na when she was offered Krrish. The role was eventually bagged...

Pooja Bedi says one does find love after divorce: ‘My dad married four times’

Actor Pooja Bedi opened up about the her kids, father and her ex-husband in a new interview. She has talked about what naysayers told...

Sonu Sood came forward to help Neha Dhupia and cricketer Suresh Raina, oxygen and injection were delivered on time. | नेहा धूपिया और क्रिकेटर...

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें Smart Newsline ऐपकोरोना महामारी बढ़ने के साथ ही देश में ऑक्सीजन, जरूरी दवाइयों,...

Saba Ali Khan shares montage featuring her family members: ‘We all have a little of the other. Mostly a lot of ma’

Saba Ali Khan, jewellery designer and the sister of actor Saif Ali Khan, on Friday, shared a montage featuring her family members. Taking to...

More Articles Like This